Visitors Views 93

सब करें प्रतिज्ञा

श्रीमती देवंती देवी
धनबाद (झारखंड)
*******************************************

हिन्दी और हमारी जिन्दगी…

आओ मिलकर सब करें प्रतिज्ञा,
आज हिन्दी दिवस के सम्मान की
त्याग तपस्या की भारत भूमि है,
नमन है शहीदों के बलिदान को।

शत-शत नमन हे माँ भारती,
चरण वन्दना कर रही देवन्ती
हिन्दी शब्द से सम्पूर्ण है धरती,
हिन्दी दिवस मना रहे भारतीय।

माँ सरस्वती की देन हिन्दी भाषा है,
सभी को हिन्दी की अभिलाषा है
हिन्दुस्तान में, हिन्दी ही बोलना है,
हिन्दी भाषा से यज्ञ-तप करना है।

हिन्दी और हमारी जिन्दगी एक है,
जीवन में हिन्दी भाषा से विवेक है
धर्म-कर्म ही अपना हिन्दी भाषा है,
हिन्दी को नहीं भूलेंगे, ऐसी आशा है।

भारत माता का शंखनाद हिन्दी है,
भारत माता की बिन्दी भी हिन्दी है
भारतीयों की शान, भाषा हिन्दी है,
‘कन्यादान’, ‘गोदान’ का मंत्र हिन्दी है॥

परिचय– श्रीमती देवंती देवी का ताल्लुक वर्तमान में स्थाई रुप से झारखण्ड से है,पर जन्म बिहार राज्य में हुआ है। २ अक्टूबर को संसार में आई धनबाद वासी श्रीमती देवंती देवी को हिन्दी-भोजपुरी भाषा का ज्ञान है। मैट्रिक तक शिक्षित होकर सामाजिक कार्यों में सतत सक्रिय हैं। आपने अनेक गाँवों में जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण दिया है। दहेज प्रथा रोकने के लिए उसके विरोध में जनसंपर्क करते हुए बहुत जगह प्रौढ़ शिक्षा दी। अनेक महिलाओं को शिक्षित कर चुकी देवंती देवी को कविता,दोहा लिखना अति प्रिय है,तो गीत गाना भी अति प्रिय है |