रचना पर कुल आगंतुक :257

You are currently viewing हिंदी सकल शिरोमणि

हिंदी सकल शिरोमणि

जबरा राम कंडारा
जालौर (राजस्थान)
****************************

हिंदी और हमारी जिंदगी….

हिंदी मेरी मातृभाषा है,
हिंदी मेरी पहचान है
हिंदी मेरा स्वाभिमान है,
हिंदी से हिंदुस्तान है।

हिंदी में ही राष्ट्र गीत है,
हिंदी में राष्ट्र-गान है
हिंदी में गायत्री मंत्र रचा,
हिंदी मेरी पहचान है।

हिंदी कथा गौरव-गाथा,
हिंदी सदा महान है
हिंदी है सकल शिरोमणि,
हिंदी ही मेरी जान है।

व्याकरण विस्तृत इसका,
अच्छा वर्ण-विधान है
संधि-समास उपसर्ग-प्रत्यय,
छंद सुंदर परिधान है।

नौ रस की नदियाँ बहती,
अलंकार मुस्कान है।
अधिकाधिक पुस्तकें देखो,
हिंदी में संविधान है॥

Leave a Reply