कुल पृष्ठ दर्शन : 193

You are currently viewing इश्क विश्वास से होता है

इश्क विश्वास से होता है

संदीप धीमान 
चमोली (उत्तराखंड)
**********************************

निकलूं जो घर से बाहर-
सामना आकाश से होता है,
प्रेम मात्र अभिव्यक्ति नहीं-
इश्क विश्वास से होता है।

रंगरेज यहां बहुत है-
चुनरी धानी करने को,
चुनरी हो रंग के भी फीकी-
इश्क,चंद छींटों में छाप से होता है।

गढ़ना,ढलना खेल हाथों का-
है प्रेम नहीं मेल बातों का,
मूल चाहिए दृढ़ संकल्पित-
इश्क,स्थिर उर के चाक से होता है।

शब्द स्नेह के प्रीत में-
रह जाते काले से आखर,
छोड़े निशा नयन कागज़ पे-
इश्क,बूंद के आभास से होता है।

लडना,झगड़ना रीत मिलन-
मनुहार न हो रीत मिलन,
बिछड़ विरह जब याद सताए-
इश्क,उस आदत के पास से होता है।

प्रेम मात्र अभिव्यक्ति नहीं,
हर लम्हा विश्वास से होता है॥

Leave a Reply