कुल पृष्ठ दर्शन : 99

You are currently viewing ‘एक शाम माँ भारती के नाम’ में जमाया कवियों ने देशभक्ति का रंग

‘एक शाम माँ भारती के नाम’ में जमाया कवियों ने देशभक्ति का रंग

पटना (बिहार)।

बंधु एंटरटेनमेंट एवं दिव्य ज्योति फाऊंडेशन के तत्वावधान में आजादी की स्वर्ण जयंती के अवसर पर ‘एक शाम माँ भारती के नाम’ कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें सुमधुर रचनाओं से देशभक्ति का खूब रंग जमा।
आरंभ में कथाकार, गीतकार, अभिनेता और सम्पादक अविनाश बंधु ने कहा कि, जाति धर्म से उपर उठकर देशवासियों को अपने देश के प्रति समर्पण भाव से जुड़ना चाहिए। अविनाश बन्धु ने सभी का स्वागत किया। मुख्य अतिथि कवि सिद्धेश्वर ने कविताई अंदाज में कहा कि, ‘इंसान को पहले इंसान होना चाहिए, फिर कोई धर्म या ईमान होना चाहिए!, मिटा सके दिल से ईर्ष्या, द्वेष, नफरत, पूजने के लिए ऐसा भगवान होना चाहिए।’ विशिष्ट अतिथि कवि अंकेश कुमार ने कहा कि, देश धर्म हमारा पहला धर्म होना चाहिए। इस कवि गोष्ठी की अध्यक्षता और संचालन दिवाकर कुमार ने किया। गोष्ठी में नगर के चुने हुए कवियों ने देश-भक्ति से ओत-प्रोत कविताओं का पाठ कर स्वर्ण दिवस को काव्यमय बना दिया।
कृष्णानंद कनक, राजप्रिया रानी, स्मृति कुमकुम सहित प्रेमसागर पांडे एवं आयुष कुमार आदि ने भी प्रस्तुति दी। गोष्ठी में २ युवा कवियों-आयुष कुमार को प्रथम पुरस्कार और धर्मवीर बिहारी लाल को द्वितीय नगद पुरस्कार सहित सम्मान-पत्र से नवाजा गया।
धन्यवाद ज्ञापन समारोह के संयोजक अविनाश बंधु ने ज्ञापित किया।