Visitors Views 62

कुछ तुमने कहा, कुछ हमने

ममता तिवारी ‘ममता’
जांजगीर-चाम्पा(छत्तीसगढ़)
**************************************

न नकाब था, न हिजाब था…
आँखों में प्रेम लाज़वाब था…।

न सवाल था, न जबाब था…
नज़र रखा कुछ ख्वाब था…।

न शराब थीं, न गुलाब था…
शबाब पर बेहिसाब था…।

न नवाब था, न खराब था…
अंदाज उसका नायाब था…।

किताब थी, न आफताब था…
वो सूरत तो महताब था…।

न रुआब था, न अजाब था…
न कायनात ही पर ताब था…।

मीनार-ए-इश्क़ हबाब था…
सौगात-ए-दिल शादाब था…।

न उस्ताद वो मास्साब था…
इल्म की खुद वो खिताब था…।

न वो हिज्र-ए-इज्तराब था…
न वो वस्ल का इंकलाब था…।

न बेताब था, न आदाब था…,
अजीज पर वो जनाब था…॥

परिचय–ममता तिवारी का जन्म १अक्टूबर १९६८ को हुआ है। वर्तमान में आप छत्तीसगढ़ स्थित बी.डी. महन्त उपनगर (जिला जांजगीर-चाम्पा)में निवासरत हैं। हिन्दी भाषा का ज्ञान रखने वाली श्रीमती तिवारी एम.ए. तक शिक्षित होकर समाज में जिलाध्यक्ष हैं। इनकी लेखन विधा-काव्य(कविता ,छंद,ग़ज़ल) है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं प्रकाशित हैं। पुरस्कार की बात की जाए तो प्रांतीय समाज सम्मेलन में सम्मान,ऑनलाइन स्पर्धाओं में प्रशस्ति-पत्र आदि हासिल किए हैं। ममता तिवारी की लेखनी का उद्देश्य अपने समय का सदुपयोग और लेखन शौक को पूरा करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *