Visitors Views 23

जाग गई नारी शक्ति

श्रीमती देवंती देवी
धनबाद (झारखंड)
*******************************************

राष्ट्र सिंहासन में बैठी भारतीय नारी,
बहना द्रौपदी जी, देश की दुलारी।

लेकर हाथ तिरंगा नारी है इतराती,
आया नारी का राज, सबको बताती।

आन-बान-शान बढ़ाई द्रौपदी बहन,
करूॅ॑गी अब, नारी एकता का गठन।

राष्ट्र में बज गया बिगुल, जाग जाओ,
मिटा दो भय को, नारी आगे आओ।

उठो नारियों, मालिक सबका एक है,
नारी सुरक्षा के लिए ज्ञान अनेक है।

राष्ट्र सिंहासन पर बैठीं द्रौपदी बहन,
नारी का हुआ, माँ शारदा से मिलन।

प्रधानमंत्री जी, कोटि नमन है नारी का,
मान बढ़ा दिया प्रधानमंत्री जी, नारी का।

बेटी बचाएं, पढ़ाएं, आगे भी बढ़ाएं,
नारियों के हृदय में, पूर्ण ज्ञान फैलाएं॥

परिचय– श्रीमती देवंती देवी का ताल्लुक वर्तमान में स्थाई रुप से झारखण्ड से है,पर जन्म बिहार राज्य में हुआ है। २ अक्टूबर को संसार में आई धनबाद वासी श्रीमती देवंती देवी को हिन्दी-भोजपुरी भाषा का ज्ञान है। मैट्रिक तक शिक्षित होकर सामाजिक कार्यों में सतत सक्रिय हैं। आपने अनेक गाँवों में जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण दिया है। दहेज प्रथा रोकने के लिए उसके विरोध में जनसंपर्क करते हुए बहुत जगह प्रौढ़ शिक्षा दी। अनेक महिलाओं को शिक्षित कर चुकी देवंती देवी को कविता,दोहा लिखना अति प्रिय है,तो गीत गाना भी अति प्रिय है |