कुल पृष्ठ दर्शन : 217

You are currently viewing तुझे जी भर जिया जिंदगी

तुझे जी भर जिया जिंदगी

जसवीर सिंह ‘हलधर’
देहरादून( उत्तराखंड)
********************************************

आज तक मैंने तुझे जी भर जिया ए जिंदगी।
हर रिवायत में इज़ाफ़ा ही किया ए जिंदगी।

आदमी का काम है हर हाल में जीना तुझे,
सोम रस या ज़हर तू डटकर पिया ए जिंदगी।

भूख रोटी की मुझे हरगिज हरा पायी नहीं,
ज़ख्म हर उसका इरादों से सिया ए जिंदगी।

जब उजालों ने मुझे धोखा दिया है राह में,
तब अँधेरों का सहारा भी लिया ए जिंदगी।

कौन है खुद ही बता अभिशाप या वरदान तू ?
लोभ माया जाल ने तोड़ा हिया ए जिंदगी।

दाग चोटों के अभी मौजूद हैं सर,भाल पर,
वक्त के आघात को हँस-हँस लिया ए जिंदगी।

मौत तो सच्ची सहेली तू पहेली क्यों हुई ?
गीत-ग़ज़लों का बनी तू काफिया ए जिंदगी।

जुर्म है या है सजा यह प्रश्न ‘हलधर’ पूछता ?
जो भी है सब ठीक है अब शुक्रिया ए जिंदगी॥

Leave a Reply