Visitors Views 52

तेजस्विता करो प्रदान

डॉ. श्राबनी चक्रवर्ती
बिलासपुर (छतीसगढ़)
*************************************************

विघ्नहर्ता गजानंद विशेष…..

हर घर विराजे गजानन,
दो वर्ष के कठिन समय के पार
गणपति बप्पा पधारे हमारे द्वार,
मन विचलित था, कर न सके तब
आपका हर्षोल्लास से स्वागत और अभिनंदन।

गली, मोहल्ले और शहर में,
इस बार है उत्सव और उमंग की बहार
हर घर विराजे गजानन, मिट्टी की सुंदर आकृति,
पर्यावरण के अनुकूल, सहज, सरल मंगलमूर्ति।

आओ हम सब मिलकर मनाएं ये पावन त्योहार,
प्रथम पूजे जाने वाले देव का करें हृदय से सत्कार
प्राथर्ना करें विघ्नहर्ता से जिसने किया विघ्नों से बचाव,
आस्था, आराधना से करें आरती जयदेव जयदेव बारम्बार।

यश, कीर्ति, वैभव, पराक्रम और ज्ञान,
बुद्धि, विवेक, तेजस्विता करो प्रदान
धन, धान्य, सौभाग्य और सफलता का दो हमें दान,
एकदन्त, दयावन्त, भर दो हमारे जीवन में प्राण।

प्रसाद स्वरूप लंबोदर को भक्त ने मोदक और लड्डू चढा़ए,
मूषक राजा टुकुर-टुकुर देखकर ललचाए
वक्रतुण्ड तब हँस कर बोले, ले तू भी खाले पेट भर के,
पर खाली मत करना उनके अनाज के भंडारे।

भक्तों को आशीर्वाद देने आए सिद्धिदाता,
शीश वंदन उनके चरणों में, अपरम्पार है जिसकी गाथा।
प्रति वर्ष आओ मिलकर करें प्रथमेश्र्वर की अर्चना और पूजा,
श्रृद्धा और भक्ति हो मन में, यही भालचंद्र की आशा॥

परिचय- शासकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय में प्राध्यापक (अंग्रेजी) के रूप में कार्यरत डॉ. श्राबनी चक्रवर्ती वर्तमान में छतीसगढ़ राज्य के बिलासपुर में निवासरत हैं। आपने प्रारंभिक शिक्षा बिलासपुर एवं माध्यमिक शिक्षा भोपाल से प्राप्त की है। भोपाल से ही स्नातक और रायपुर से स्नातकोत्तर करके गुरु घासीदास विश्वविद्यालय (बिलासपुर) से पीएच-डी. की उपाधि पाई है। अंग्रेजी साहित्य में लिखने वाले भारतीय लेखकों पर डाॅ. चक्रवर्ती ने विशेष रूप से शोध पत्र लिखे व अध्ययन किया है। २०१५ से अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय (बिलासपुर) में अनुसंधान पर्यवेक्षक के रूप में कार्यरत हैं। ४ शोधकर्ता इनके मार्गदर्शन में कार्य कर रहे हैं। करीब ३४ वर्ष से शिक्षा कार्य से जुडी डॉ. चक्रवर्ती के शोध-पत्र (अनेक विषय) एवं लेख अंतर्राष्ट्रीय-राष्ट्रीय पत्रिकाओं और पुस्तकों में प्रकाशित हुए हैं। आपकी रुचि का क्षेत्र-हिंदी, अंग्रेजी और बांग्ला में कविता लेखन, पाठ, लघु कहानी लेखन, मूल उद्धरण लिखना, कहानी सुनाना है। विविध कलाओं में पारंगत डॉ. चक्रवर्ती शैक्षणिक गतिविधियों के लिए कई संस्थाओं में सक्रिय सदस्य हैं तो सामाजिक गतिविधियों के लिए रोटरी इंटरनेशनल आदि में सक्रिय सदस्य हैं।