कुल पृष्ठ दर्शन : 245

You are currently viewing नव संवत्सर उल्लास

नव संवत्सर उल्लास

दिनेश कुमार प्रजापत ‘तूफानी’
दौसा(राजस्थान)
*****************************************

गुड़ी पड़वा विशेष….

नव जीवन नव आस लिए,
नव संवत्सर उल्लास लिए
नव सम्वत का करे स्वागत,
प्रेम प्रकृति में मधुमास लिए।

नव पुष्प खिले उपवन में,
फैल जाए खुशबू पवन में
नव संवत आया भारत में,
कोयल मैना गाए कानन में।

ढोल नगाड़े से हो आगाज,
माटीपुत्र को मिले अनाज
मँगलमय हो नववर्ष हमारा,
गगन चुम्बी मिले परवाज।

आँगन में सूरज की लाली,
चिड़िया चहके बजा ताली।
खुशनुमा हो नववर्ष ‘दिनेश’,
घर में वास करे अहिमाली॥

Leave a Reply