कुल पृष्ठ दर्शन : 346

You are currently viewing मृग-तृष्णा

मृग-तृष्णा

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
******************************************************

मानव मन लालच भरे,मृग तृष्णा बन आय।
रुके नहीं यह साथियों,दिन-दिन बढ़ता जाय॥

मृग तृष्णा इक भूख है,करे अनैतिक काम।
होते हैं इससे सभी,मानव फिर बदनाम॥

कहीं लूट औ जंग भी,होते हैं व्यभिचार।
मृग तृष्णा की प्यास में,भटक रहे संसार॥

भाई से भाई लड़े,कलह द्वेष घर-द्वार।
छिन जाते हैं सुख सभी,दु:ख पाते परिवार॥

मृग तृष्णा करना नहीं,जीवन है अनमोल।
सदा नेक राहें चलो,हर इक पग को तोल॥

Leave a Reply