कुल पृष्ठ दर्शन : 234

You are currently viewing मौसम है यह प्रीत का

मौसम है यह प्रीत का

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
*****************************************

होली का त्यौहार यह,खेलो रंग गुलाल।
मौसम है यह प्रीत का,बहके-बहके चाल॥
बहके-बहके चाल,पिचकते हैं पिचकारी।
फागुन मस्त बहार,लिए हैं यौवन सारी॥
कहे ‘विनायक राज’,खेलते हैं हमजोली।
रंगों का त्यौहार,मना लो पावन होली॥

Leave a Reply