कुल पृष्ठ दर्शन : 246

You are currently viewing यहीं कहीं कैलाश में

यहीं कहीं कैलाश में

संदीप धीमान 
चमोली (उत्तराखंड)
**********************************

यही कहीं कैलाश में
आत्म चहक रही मेरी,
सावन की बरसात में-
मिट्टी महक रही मेरी।

प्रीत में शीत नहीं
जीवन में जीत नहीं,
हार जाऊं बन हार मैं-
लिपट गले महकूं तेरे।

स्पर्श पवन पा रही
तरंग उर समा रही,
त्वरित मिलन को देह-
नित बहका रही मेरी।

महेश हो,मधमहेश हो
तांडव कारी परमेश हो,
त्राहिमाम पापों की-
आत्म मांग रही मेरी।

आषुतोष,शशांक तुम
शेखर,तुंगनाथ तुम,
भूत कहूं या मैं अघोरी हो मौन-
आत्म पुकार रही मेरी॥

परिचय- संदीप धीमान का जन्म स्थान-हरिद्वार एवं जन्म तारीख १ मार्च १९७६ है। इनका साहित्यिक नाम ‘धीमान संदीप’ है। वर्तमान में जिला-चमोली (उत्तराखंड)स्थित जोशीमठ में बसे हुए हैं,जबकि स्थाई निवास हरिद्वार में है। भाषा ज्ञान हिन्दी एवं अंग्रेजी का है। उत्तराखंड निवासी श्री धीमान ने इंटरमीडिएट एवं डिप्लोमा इन फार्मेसी की शिक्षा प्राप्त की है। इनका कार्यक्षेत्र-स्वास्थ्य विभाग (उत्तराखंड)है। आप सामाजिक गतिविधि में मानव सेवा में सक्रिय हैं। लेखन विधा-कविता एवं ग़ज़ल है। आपकी रचनाएँ सांझा संग्रह सहित समाचार-पत्र में भी प्रकाशित हुई हैं। लेखनी का उद्देश्य-हिंदी भाषा व भारतीय संस्कृति का प्रचार प्रसार करना है। देश और हिन्दी भाषा के लिए विचार-‘सनातन संस्कृति और हिन्दी भाषा अतुलनीय है,जिसके माध्यम से हम अपने भाव अच्छे से प्रकट कर सकते हैं,क्योंकि हिंदी भाषा में उच्चारण का महत्व हृदय स्पर्शी है।

Leave a Reply