कुल पृष्ठ दर्शन : 620

You are currently viewing विजय पर्व

विजय पर्व

एम.एल. नत्थानी
रायपुर(छत्तीसगढ़)
***************************************

विजयादशमी विशेष…

असत्य पर सत्य का,
विजय पर्व मनाते हैं
सदियों से मर्यादा का,
आदर्श गर्व बताते हैं।

आसुरी शक्ति विरुद्ध,
ये धर्म का जयघोष है
भीषण दैत्य संहार से,
कर्म का युद्धघोष है।

सहस्त्राब्दियों से यह,
जनमानस आस्था है
पौराणिक गौरवगान,
की अनुपम गाथा है।

भारतीय चैतन्य स्नेह,
अंतर्मन की आत्मा है
लोकजीवन में व्याप्त,
ये अनंत परमात्मा है।

आदर्श जीवन संदेश,
सदैव यह नरोत्तम है।
धर्म संरक्षण हितैषी,
मर्यादा पुरुषोत्तम है॥

Leave a Reply