कुल पृष्ठ दर्शन : 217

You are currently viewing वेणी

वेणी

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
*************************************

नारी वेणी साजती,सुन्दर यह श्रृंगार।
ममता की मूरत भली,देखें सब संसार॥
देखें सब संसार,त्रिवेणी जैसी संगम।
नारी शोभित केश,सुहानी लगती हरदम॥
कहे ‘विनायक राज’,बने राधा-सी प्यारी।
गूँथे वेणी रोज,दिखे सुंदरता नारी॥

Leave a Reply