Visitors Views 59

सद्भाव

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरे
मंडला(मध्यप्रदेश)

*******************************************

सबसे हिल-मिलकर रहो,तभी बनेगी बात,
जब-सब सद्भावी बनें,तब रोशन हो रात।
यही आज संदेश है,यही आज उद्घोष-
भारतवासी एक हों,तब मिलती सौगात॥

हिन्दू-मुस्लिम एक हैं,मानव सारे एक,
सबको बनना है यहाँ,मानुष चोखा,नेक।
पुलकित हो सौहार्द नित,नेह पले हर हाल-
सभी धर्म तो एक हैं,दिखते भले अनेक॥

अंधकार में रोशनी,बिखरेगी तब ख़ूब,
उगे देश में एकता,की जब पावन दूब।
टूटन अरु दुर्भाव का,होता दुष्परिणाम-
पलती यदि नहिं एकता,सब कुछ जाता डूब॥

सद्भावी यह देश है,अमन-चैन का भाव,
सब क़ौमों में एकता,दिखता नेहिल ताव।
जब पलता सद्भाव तब,खुशियाँ करतीं राज-
खुशहाली रहती सदा,दिखता सार,प्रभाव॥

धर्म सभी तो एक हैं,मत करना तुम भेद,
वरना तो होगा अभी,एक्य भाव में छेद।
हो यदि क़ौमी एकता,गूँजे मंगलगान-
वरना होना तय ‘शरद’,बेहद सबको खेद॥

परिचय–प्रो.(डॉ.)शरद नारायण खरे का वर्तमान बसेरा मंडला(मप्र) में है,जबकि स्थायी निवास ज़िला-अशोक नगर में हैL आपका जन्म १९६१ में २५ सितम्बर को ग्राम प्राणपुर(चन्देरी,ज़िला-अशोक नगर, मप्र)में हुआ हैL एम.ए.(इतिहास,प्रावीण्यताधारी), एल-एल.बी सहित पी-एच.डी.(इतिहास)तक शिक्षित डॉ. खरे शासकीय सेवा (प्राध्यापक व विभागाध्यक्ष)में हैंL करीब चार दशकों में देश के पांच सौ से अधिक प्रकाशनों व विशेषांकों में दस हज़ार से अधिक रचनाएं प्रकाशित हुई हैंL गद्य-पद्य में कुल १७ कृतियां आपके खाते में हैंL साहित्यिक गतिविधि देखें तो आपकी रचनाओं का रेडियो(३८ बार), भोपाल दूरदर्शन (६ बार)सहित कई टी.वी. चैनल से प्रसारण हुआ है। ९ कृतियों व ८ पत्रिकाओं(विशेषांकों)का सम्पादन कर चुके डॉ. खरे सुपरिचित मंचीय हास्य-व्यंग्य  कवि तथा संयोजक,संचालक के साथ ही शोध निदेशक,विषय विशेषज्ञ और कई महाविद्यालयों में अध्ययन मंडल के सदस्य रहे हैं। आप एम.ए. की पुस्तकों के लेखक के साथ ही १२५ से अधिक कृतियों में प्राक्कथन -भूमिका का लेखन तथा २५० से अधिक कृतियों की समीक्षा का लेखन कर चुके हैंL  राष्ट्रीय शोध संगोष्ठियों में १५० से अधिक शोध पत्रों की प्रस्तुति एवं सम्मेलनों-समारोहों में ३०० से ज्यादा व्याख्यान आदि भी आपके नाम है। सम्मान-अलंकरण-प्रशस्ति पत्र के निमित्त लगभग सभी राज्यों में ६०० से अधिक सारस्वत सम्मान-अवार्ड-अभिनंदन आपकी उपलब्धि है,जिसमें प्रमुख म.प्र. साहित्य अकादमी का अखिल भारतीय माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार(निबंध-५१० ००)है।