Visitors Views 25

सपने चुनने की आजादी

डॉ.अशोक
पटना(बिहार)
***********************************

सपने चुनने की मिली आजादी,
एक अमृत दैवीय उपकार है
नहीं किसी से बैर भाव रहता,
यह उन्नत समृद्ध संस्कार है।

अनुशासन और उत्तम संयम,
सबके मन में देता अनूठा प्यार है
सपने जीवन में अपने लिए चुनने का,
सबको यहां मिलता अधिकार है।

बाधाएं खत्म कर हम बढ़ें सदा,
यह एक उत्तम राह हमें यहां देगी
सपने चुनने में सदैव यह हममें,
खूब जोश और उमंग भर देगी।

जीवन का एक लक्ष्य साधकर,
हमें सदैव आगे यहां बढ़ना है
मुश्किल वक्त पर नहीं घबराकर,
लक्ष्य प्राप्ति के लिए लड़ना है।

सपने पूरे करने हैं तो फिर,
खूब मेहनत उत्साह रखें हमेशा यहां
ईश्वर देगा ज़रूर सफलता,
मन में ईश्वर का सुन्दर भाव रखते हैं यहां।

कर्मवीर ही पाते हैं जग संसार में,
उत्साहित श्रम का यहां एक उपहार
श्रम से हैं जो भागते फिरते,
नहीं मिलता उन्हें उत्तम संस्कार।

तूफानों से हमें हर पल लड़ना है,
प्रतिकूल धार पर राह बनानी होगी
ज़िन्दगी में मुश्किलों से नहीं घबराना है,
सफलता पाने में कड़ी मेहनत करनी होगी।

श्रमिक योद्धा ही जीवन में हरक्षण,
हर पल मुश्किल में होते हैं सफल यहां
मेहनत से कतराने वाले लोगों को,
नहीं मिलता है फल-फूल कभी यहां।

कठोर साधना और प्रचुर मेहनत यहां,
मजबूत वजह बनाती है उत्तम राह की सदा
जीवन को जो शान समझते हैं,
नहीं उन्हें कभी मिलता है पुरस्कार यहां।

सफलता यहां बहुत कठिन है,
इसकी सीधी नहीं धार होती है कभी
हिम्मत बिन जीवन में खुशहाली,
नहीं वैतरणी पार कराती है कभी।

उत्साह, उमंग और ताक़त पर दुनिया में,
जिसने जीवन में नहीं दिया कभी ध्यान।
सफलता उनको नहीं मिलेगी कभी,
उनके सपनों पर लग जाता है ग्रहण॥

परिचय–पटना(बिहार) में निवासरत डॉ.अशोक कुमार शर्मा कविता,लेख,लघुकथा व बाल कहानी लिखते हैं। आप डॉ.अशोक के नाम से रचना कर्म में सक्रिय हैं। शिक्षा एम.काम.,एम.ए.(राजनीति शास्त्र,अर्थशास्त्र, हिंदी,इतिहास,लोक प्रशासन एवं ग्रामीण विकास) सहित एलएलबी,एलएलएम,सीएआईआईबी, एमबीए व पीएच-डी.(रांची) है। अपर आयुक्त (प्रशासन)पद से सेवानिवृत्त डॉ. शर्मा द्वारा लिखित अनेक लघुकथा और कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं,जिसमें-क्षितिज,गुलदस्ता, रजनीगंधा (लघुकथा संग्रह) आदि है। अमलतास,शेफालीका,गुलमोहर, चंद्रमलिका,नीलकमल एवं अपराजिता (लघुकथा संग्रह) आदि प्रकाशन में है। ऐसे ही ५ बाल कहानी (पक्षियों की एकता की शक्ति,चिंटू लोमड़ी की चालाकी एवं रियान कौवा की झूठी चाल आदि) प्रकाशित हो चुकी है। आपने सम्मान के रूप में अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्य मंच द्वारा काव्य क्षेत्र में तीसरा,लेखन क्षेत्र में प्रथम,पांचवां,आठवां स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के अखबारों में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैं।