Visitors Views 30

सर्वश्रेष्ठ अवतार है पिता

डॉ.अशोक
पटना(बिहार)
***********************************

पिता है तो जीवन है,
ज़िन्दगी का सर्वोत्तम उपहार है
संसार में पुत्र के लिए,
जीवन का उत्कृष्ट पुरस्कार है।

बचपन के सखा और जीवन के सफ़र में,
दोस्त-मित्र-संगी का दिखता व्यवहार है
मुश्किल वक्त का मजबूत साथी,
मुश्किल वक्त में हरपल हरक्षण
हर दु:ख को हर लेने वाला भंगी-सा,
सम्बल सुरक्षित और सुकून देने वाला उपचार है।

हर परिस्थिति में पिता ही पुत्र-सन्तान की,
समृद्धि की बात सपने में भी सोचता है
ज़िन्दगी के सफ़र में पिता ही पुत्र को सदैव,
सफलता की राह पर आगे बढ़ाने के लिए
दिल में अपने अरमानों को बिना थके हुए,
पिता सदैव संजोए रखता है हरपल हरक्षण यहां।

नहीं कोई गिला-शिकवा पिता का,
रहता है कभी भी यहां
ज़िन्दगी में बस बरकत हो पुत्र के,
यही बस हर पल सोचता रहता है पिता यहां।

पिता जीवन निर्माण की अनूठी अनमोल शक्ति है,
सम्पूर्णता संग सम्पूर्णता की लगती अनुभूति हैं
जैविक प्रसाद है जीवन के निर्माण में पिता यहां,
मजबूती प्रदान करने वाला मजबूत सम्बल
शख्सियत निर्माणकर्ता बन कर रहता है यहां।

जगत-संसार में पिता ही प्यार और अनुराग है,
अपने घर में माँ की बिंदी और उगता सुहाग है
जीवन में पिता की सुरक्षा ही सही व मजबूत साथ है,
पिता नहीं तो पुत्र टुअर व कहलाता सबके बीच अनाथ है।

संसार में पिता ही सुरक्षा और सम्पूर्णता की उन्नत शान है,
पिता नहीं हैं तो जिंदगी की हर खुशी दिखती लहूलुहान है।

हम-सब मिलकर एक सम्बल और मजबूत इकरार करें यहां,
पिता को जिंदगी भर अपने पास रखने में इनकार न हो यहां॥

परिचय–पटना(बिहार) में निवासरत डॉ.अशोक कुमार शर्मा कविता,लेख,लघुकथा व बाल कहानी लिखते हैं। आप डॉ.अशोक के नाम से रचना कर्म में सक्रिय हैं। शिक्षा एम.काम.,एम.ए.(राजनीति शास्त्र,अर्थशास्त्र, हिंदी,इतिहास,लोक प्रशासन एवं ग्रामीण विकास) सहित एलएलबी,एलएलएम,सीएआईआईबी, एमबीए व पीएच-डी.(रांची) है। अपर आयुक्त (प्रशासन)पद से सेवानिवृत्त डॉ. शर्मा द्वारा लिखित अनेक लघुकथा और कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं,जिसमें-क्षितिज,गुलदस्ता, रजनीगंधा (लघुकथा संग्रह) आदि है। अमलतास,शेफालीका,गुलमोहर, चंद्रमलिका,नीलकमल एवं अपराजिता (लघुकथा संग्रह) आदि प्रकाशन में है। ऐसे ही ५ बाल कहानी (पक्षियों की एकता की शक्ति,चिंटू लोमड़ी की चालाकी एवं रियान कौवा की झूठी चाल आदि) प्रकाशित हो चुकी है। आपने सम्मान के रूप में अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्य मंच द्वारा काव्य क्षेत्र में तीसरा,लेखन क्षेत्र में प्रथम,पांचवां,आठवां स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के अखबारों में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैं।