Visitors Views 107

हिंदी अभिमान

गरिमा पंत 
लखनऊ(उत्तरप्रदेश)

**********************************************************************

हिंदी  दिवस स्पर्धा विशेष………………..


हिन्दी हमारी जान है,
हिंदी हमारी शान है।
हिंदी हमारी बोली है,
फिर भी हिंदी उदास है।
हिंदी हमारी चेतना है,
हिंदी हमारी संस्कृति है।
हिंदी हमारी वेदना है,
फिर भी हिंदी उदास है।
हिंदी हमारी आत्मा है,
हिंदी हमारी संवेदना है।
हिंदी हमारी लाज है,
फिर भी हिंदी उदास है।
हिंदी हमारी अस्मिता है,
हिंदी हमारी मान है।
हिंदी के बिना सब कुछ बेकार है,
फिर भी हिंदी उदास है।
हिंदी हमारी वाणी का अभिमान है,
हिंदी मां सरस्वती का वरदान है।
हिंदी हमारी साधना है,
फिर भी हिंदी उदास है॥

परिचय-गरिमा पंत की जन्म तारीख-२६ अप्रैल १९७४ और जन्म स्थान देवरिया है। वर्तमान में लखनऊ में ही स्थाई निवास है। हिंदी-अंग्रेजी भाषा जानने वाली गरिमा पंत का संबंध उत्तर प्रदेश राज्य से है। शिक्षा-एम.बी.ए.और कार्यक्षेत्र-नौकरी(अध्यापिका)है। सामाजिक गतिविधि में सक्रिय गरिमा पंत की कई रचनाएँ समाचार पत्रों में छपी हैं। २००९ में किताब ‘स्वाति की बूंदें’ का प्रकाशन हुआ है। ब्लाग पर भी सक्रिय हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *