Total Views :158

You are currently viewing उड़ना पंख पसार

उड़ना पंख पसार

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
*******************************************

ये तन पंछी मान कर,उड़ना पंख पसार।
नील गगन की छाँव में,सुन्दर-सा संसार॥
सुन्दर-सा संसार,सजाना साथी सपने।
मिले सभी को प्यार,बसे घर मेरे अपने॥
कहे ‘विनायक राज’,हौंसला रखना रे मन।
मिट जायेगा आज,सुनो रे माटी ये तन॥

Leave a Reply