Visitors Views 68

चुनाव चक्रवात

छगन लाल गर्ग “विज्ञ”
आबू रोड (राजस्थान)
****************************************************************************
देख चुनाव उछाल है,सभी करे उत्पातl
जोश भरे हर चाल में,सता भूख संतापl
भूल चुके जो कर्म है,करे अनोखी बात-
वोट चोट की मार से,सभी सहे अनुतापll

नेता अब कहने लगे,सदा रहेगा साथl
भूल-चूक सब माफ हो,मित्र तुम्ही रघुनाथl
लो वादा तैयार हूँ,देने को मैं आज-
वोट दिलाना शर्तिया,देवता जगन्नाथll

देखा नहीं था आज तक,खड़े हमारे द्वारl
धन्य हमारे भाग हैं,नेता जी अवतारl
गोल गप्प मिश्री भरा,हँसता खिलता गाल-
तौंद विराट कुरूप है,देख हुआ उद्धारll

पूछे सबका हाल है,कैसे हो भगवानl
नाव हमारी तार लो,पैर धूल पहचानl
काम बता सब ही करूँ,देना मत न फिजूल-
सदा करेंगे आपका,पूरा सब अरमानll

गणतंत्र देश भावना,रखना सब हित ध्यानl
बिका किसी जो लोभ में,खंडित होगा मानl
योग्य उम्मीदवार हो,मिले सभी को काम-
छोड़ सभी तैयार हो,करो सभी मतदानll

परिचय–छगनलाल गर्ग का साहित्यिक उपनाम `विज्ञ` हैl १३ अप्रैल १९५४ को गाँव-जीरावल(सिरोही,राजस्थान)में जन्मे होकर वर्तमान में राजस्थान स्थित आबू रोड पर रहते हैं, जबकि स्थाई पता-गाँव-जीरावल हैl आपको भाषा ज्ञान-हिन्दी, अंग्रेजी और गुजराती का हैl स्नातकोत्तर तक शिक्षित श्री गर्ग का कार्यक्षेत्र-प्रधानाचार्य(राजस्थान) का रहा हैl सामाजिक गतिविधि में आप दलित बालिका शिक्षा के लिए कार्यरत हैंl इनकी लेखन विधा-छंद,कहानी,कविता,लेख हैl काव्य संग्रह-मदांध मन,रंजन रस,क्षणबोध और तथाता (छंद काव्य संग्रह) सहित लगभग २० प्रकाशित हैं,तो अनेक पत्र-पत्रिकाओं में भी रचनाएं प्रकाशित हुई हैंl बात करें प्राप्त सम्मान -पुरस्कार की तो-काव्य रत्न सम्मान,हिंदी रत्न सम्मान,विद्या वाचस्पति(मानद उपाधि) व राष्ट्रीय स्तर की कई साहित्य संस्थानों से १०० से अधिक सम्मान मिले हैंl ब्लॉग पर भी आप लिखते हैंl विशेष उपलब्धि-साहित्यिक सम्मान ही हैंl इनकी लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी भाषा का प्रसार-प्रचार करना,नई पीढ़ी में शास्त्रीय छंदों में अभिरुचि उत्पन्न करना,आलेखों व कथाओं के माध्यम से सामयिक परिस्थितियों को अभिव्यक्ति देने का प्रयास करना हैl पसंदीदा हिन्दी लेखक-मुंशी प्रेमचंद व कवि जयशंकर प्रसाद हैंl छगनलाल गर्ग `विज्ञ` के लिए प्रेरणा पुंज- प्राध्यापक मथुरेशनंदन कुलश्रेष्ठ(सिरोही,राजस्थान)हैl