कुल पृष्ठ दर्शन : 316

You are currently viewing जागृत उपहार

जागृत उपहार

डॉ.अशोक
पटना(बिहार)
**********************************

कद-काठी में बड़े-छोटे से,
नहीं थी कोई कमी कहीं
उनमें भरपूर था देश के लिए,
खूब मान व सम्मान
राष्ट्रीयता को जागृत कर,
माँ भारती की बढ़ा दी थी
अद्भुत आन-बान और शान।

गुणों से भरपूर थे,
पहल करने की कला थी अपूर्व
उमंग और उत्साह से,
भरपूर था पूरा जीवन काल
आकर्षण और उन्नत संस्कार,
अद्भुत और प्रेरणादायी था
संस्कृति को आगे बढ़ाने की,
रखते थे सबमें सर्वोत्तम बनकर
देश के एक सर्वोत्तम महाकाल।

प्रगति और विकास था जिसमें,
खूबसूरत एवं विशालकाय
एक खूबसूरत व सर्वोत्तम पहचान,
कुशलता के गुणों से रहते थे सदैव भाव-विभोर
हम सबको था अभिमान।

अविस्मरणीय सन्देश के थे श्रेष्ठ श्रंगार,
हरपल यह दिखता रहता था उनमें
उत्साहित मन और देश के लिए,
खूब हृदय से अटूट विश्वास संग प्यार
हरपल रहते थे उत्साहित अन्तर्मन से,
देश था जिनके मन में मानो एक समन्दर
राजनीति में आज़ भी वे कहलाते हैं,
एक निर्भीक सिपाही और धुरंधर।

भारतीयता को जिन्होंने दिल में बिठाया,
वैश्विक ताकत बनकर पूरे विश्व में
हमेशा भारत का परचम फहराया,
भारतीय संस्कृति को देते रहे सदैव बढ़ावा।

जागृत करने में देश के हितों को लेकर,
करते रहे सदैव सम्बल प्रयास
जिम्मेदारी से भारत को आगे बढ़ाने में उनके क़दम का,
हमें आज़ भी दिखता है अहसास।

‘जय जवान जय किसान’ था उनका,
एक उत्कृष्ट व प्रखर विचार
आर्यावर्त भरतखण्ड की संस्कृति को,
सदैव करते रहे यहाँ गुलजार।
नतमस्तक नहीं हुई यह तस्वीर।

वैश्विक स्तर पर उन्होंने अपने अटूट विश्वास व,
उत्साहित शौर्य और पराक्रम से
वैश्विक स्तर पर खूब उधम मचाया
उनके उन्नत प्रयास और प्रयोग ने,
देश और दुनिया में भारतीय संस्कृति का
शिखर पर लगातार खूब नाम फैलाया॥

परिचय–पटना (बिहार) में निवासरत डॉ.अशोक कुमार शर्मा कविता, लेख, लघुकथा व बाल कहानी लिखते हैं। आप डॉ.अशोक के नाम से रचना कर्म में सक्रिय हैं। शिक्षा एम.काम., एम.ए.(अंग्रेजी, राजनीति शास्त्र, अर्थशास्त्र, हिंदी, इतिहास, लोक प्रशासन व ग्रामीण विकास) सहित एलएलबी, एलएलएम, एमबीए, सीएआईआईबी व पीएच.-डी.(रांची) है। अपर आयुक्त (प्रशासन) पद से सेवानिवृत्त डॉ. शर्मा द्वारा लिखित कई लघुकथा और कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं, जिसमें-क्षितिज, गुलदस्ता, रजनीगंधा (लघुकथा) आदि हैं। अमलतास, शेफालिका, गुलमोहर, चंद्रमलिका, नीलकमल एवं अपराजिता (लघुकथा संग्रह) आदि प्रकाशन में है। ऐसे ही ५ बाल कहानी (पक्षियों की एकता की शक्ति, चिंटू लोमड़ी की चालाकी एवं रियान कौवा की झूठी चाल आदि) प्रकाशित हो चुकी है। आपने सम्मान के रूप में अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्य मंच द्वारा काव्य क्षेत्र में तीसरा, लेखन क्षेत्र में प्रथम, पांचवां व आठवां स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के कई अखबारों में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैं।