कुल पृष्ठ दर्शन : 314

You are currently viewing तुम ही तो शुभ साज हो

तुम ही तो शुभ साज हो

आशा आजाद`कृति`
कोरबा (छत्तीसगढ़)

*******************************************

प्रियवर मेरे हृदय भाव की, तुम ही तो आवाज हो।
आशा के हर गीत सृजन का, तुम ही तो शुभ साज हो॥

प्रियतम तुम्हीं गीत सार में, तुम तो शुभ नव भावना,
अविरल तेरे प्रेम धार से, पाती निर्मल कामना।
मधुर मधुर श्रृंगार गीत का, तुम ही तो आगाज हो,
आशा के हर गीत सृजन का, तुम ही तो शुभ साज हो…॥

बंध गीत पर तेरा साया, तुझसे ही रसधार है,
सुंदर अभिव्यक्ति जो गढ़ती, मिला प्रेम से सार है।
मृदुल स्वरों का नवल गेय तुम, तुम ही नव अंदाज हो,
आशा के हर गीत सृजन का, तुम ही तो शुभ साज हो॥

कला पक्ष का चित्रण करती, पाया निज विश्वास से,
भावों में गहराई देती, सत्य सुखद निज भास से।
करुण विरह श्रृंगार गीत सब, धवल जीत का राज हो,
आशा के हर गीत सृजन का, तुम ही तो शुभ साज हो…॥

सदा अलंकृत नेक भावना, गढ़ती हूँ शुभ प्रीत से,
प्रेम रसों को बाँध रहीं मैं, प्रेमिल अंतर रीत से।
कवयित्री कहलाती प्रियवर, तुम मेरे कविराज हो,
आशा के हर गीत सृजन का, तुम ही तो शुभ साज हो…॥

परिचय–आशा आजाद का जन्म बाल्को (कोरबा,छत्तीसगढ़)में २० अगस्त १९७८ को हुआ है। कोरबा के मानिकपुर में ही निवासरत श्रीमती आजाद को हिंदी,अंग्रेजी व छत्तीसगढ़ी भाषा का ज्ञान है। एम.टेक.(व्यवहारिक भूविज्ञान)तक शिक्षित श्रीमती आजाद का कार्यक्षेत्र-शा.इ. महाविद्यालय (कोरबा) है। सामाजिक गतिविधि के अन्तर्गत आपकी सक्रियता लेखन में है। इनकी लेखन विधा-छंदबद्ध कविताएँ (हिंदी, छत्तीसगढ़ी भाषा)सहित गीत,आलेख,मुक्तक है। आपकी पुस्तक प्रकाशाधीन है,जबकि बहुत-सी रचनाएँ वेब, ब्लॉग और पत्र-पत्रिका में प्रकाशित हुई हैं। आपको छंदबद्ध कविता, आलेख,शोध-पत्र हेतु कई सम्मान-पुरस्कार मिले हैं। ब्लॉग पर लेखन में सक्रिय आशा आजाद की विशेष उपलब्धि-दूरदर्शन, आकाशवाणी,शोध-पत्र हेतु सम्मान पाना है। आपकी लेखनी का उद्देश्य-जनहित में संदेशप्रद कविताओं का सृजन है,जिससे प्रेरित होकर हृदय भाव परिवर्तन हो और मानुष नेकी की राह पर चलें। पसंदीदा हिन्दी लेखक-रामसिंह दिनकर,कोदूराम दलित जी, तुलसीदास,कबीर दास को मानने वाली आशा आजाद के लिए प्रेरणापुंज-अरुण कुमार निगम (जनकवि कोदूराम दलित जी के सुपुत्र)हैं। श्रीमती आजाद की विशेषज्ञता-छंद और सरल-सहज स्वभाव है। आपका जीवन लक्ष्य-साहित्य सृजन से यदि एक व्यक्ति भी पढ़कर लाभान्वित होता है तो, सृजन सार्थक होगा। देवी-देवताओं और वीरों के लिए बड़े-बड़े विद्वानों ने बहुत कुछ लिख छोड़ा है,जो अनगिनत है। यदि हम वर्तमान (कलयुग)की पीड़ा,जनहित का उद्धार,संदेश का सृजन करें तो निश्चित ही देश एक नवीन युग की ओर जाएगा। देश और हिंदी भाषा के प्रति विचार-“हिंदी भाषा से श्रेष्ठ कोई भाषा नहीं है,यह बहुत ही सरलता से मनुष्य के हृदय में अपना स्थान बना लेती है। हिंदी भाषा की मृदुवाणी हृदय में अमृत घोल देती है। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की ओर प्रेम, स्नेह,अपनत्व का भाव स्वतः बना लेती है।”

Leave a Reply