कुल पृष्ठ दर्शन : 132

You are currently viewing दिखाते रोशनी

दिखाते रोशनी

अजय जैन ‘विकल्प’
इंदौर(मध्यप्रदेश)
******************************************

गुरु है ज्ञान
दिखाते हैं रोशनी
गुरु महान।

सखा है गुरु
मिल जाए जिसे ये
जीवन शुरू।

गुरु विद्वान
गुरु हैं मात-पिता
देते हैं ज्ञान।

गुरु संबंध
है मुश्किल में साथ
करे प्रबन्ध।

ज्ञान की खान
गुरु से सफलता
दिलाते मान।

भाग्य विधाता
बताते अच्छा-बुरा
राष्ट्र निर्माता।

निभाते साथ
श्रेष्ठ गुरु सहज
थामते हाथ।

शिक्षक न हो
गुरु यानी भरोसा
उजास न हो।

गुरु वंदन
शीश नवाते हम
कनक बने।

स्वर्ण बनाते
करो नमन इन्हें
गुरु महान।

ज्ञान अपार
मान देना गुरु को
प्रेम संसार।

दिखाते रास्ता
गुण बढ़ाए गुरु
तोड़े न वास्ता।

भाग्य है जागा
जो भला करें गुरु
दुर्गुण भागे।

स्नेह लीजिए
गुरु को न भूलना
मान दीजिए।

देते हैं तार
थाम कर जीवन
की पतवार॥