कुल पृष्ठ दर्शन : 242

You are currently viewing धागा

धागा

बोधन राम निषाद ‘राज’ 
कबीरधाम (छत्तीसगढ़)
******************************************

धागा है ये प्रेम का,रखना इसे संभाल।
टूटे कभी न साथियों,चाहे जो भी हाल॥
चाहे जो भी हाल,बचाना है मर्यादा।
प्यारा हो सम्बन्ध,कभी कम हो या ज्यादा॥
कहे ‘विनायक राज’,प्रेम में हो नहिं कागा।
बिखरे कभी न फूल,बनाओ अच्छा धागा॥

Leave a Reply