कुल पृष्ठ दर्शन : 215

You are currently viewing मधुमास आयो री…

मधुमास आयो री…

राजबाला शर्मा ‘दीप’
अजमेर(राजस्थान)
*******************************************

बसंत पंचमी विशेष….

मन-मयूर नाच रहा,
सखी! मधुमास आयो री
ले ले बलैंया,
ऋतुराज मेरे द्वार आयो री।

अंबुआ की डारी-डारी,
कूंके कोयलिया कारी
फुदक-फुदक गौरैया,
नाच रही मतवारी।
धरती आनंदित है,फागुनी बयार लायो री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

धरती भी धानी चुनर,
ओढ़ के गई है संवर
फूलों की क्यारी-क्यारी,
खिलखिला रही है मुखर।
बासंती दिग-दिगंत,हर्ष अपार छायो री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

महक उठी कली-कली,
भंवरे फिरें गली-गली
पतझड़ का अंत हुआ,
तितली झूम-झूम चली।
तन-मन उमंग को उपहार पायो री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

नेह के हजारों रंग,
बिखरे मधुमास में
पतझड़ को नवजीवन,
मिला इस मास में।
लाज शर्म छोड़,प्रीत रंग में नहाओ री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

सूरज की किरणों में,
टेसू के फूलों में
सरसों के खेतों में,
रेतीले टीलों में।
प्रकृति के अंग-अंग मदन समायो री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

ब्रह्मा ने कमंडल से,
बूंदें जो छलकाईं
सप्त स्वर नाच उठे,
प्रकृति ने ली अंगड़ाई।
स्वागत है,स्वागत है…
मादक बसंत चहूं दिश,
आज छायो री,
सखी! मधुमास आयो री…॥

परिचय– राजबाला शर्मा का साहित्यिक उपनाम-दीप है। १४ सितम्बर १९५२ को भरतपुर (राज.)में जन्मीं राजबाला शर्मा का वर्तमान बसेरा अजमेर (राजस्थान)में है। स्थाई रुप से अजमेर निवासी दीप को भाषा ज्ञान-हिंदी एवं बृज का है। कार्यक्षेत्र-गृहिणी का है। इनकी लेखन विधा-कविता,कहानी, गज़ल है। माँ और इंतजार-साझा पुस्तक आपके खाते में है। लेखनी का उद्देश्य-जन जागरण तथा आत्मसंतुष्टि है। पसंदीदा हिन्दी लेखक-शरदचंद्र, प्रेमचंद्र और नागार्जुन हैं। आपके लिए प्रेरणा पुंज-विवेकानंद जी हैं। सबके लिए संदेश-‘सत्यमेव जयते’ का है।

Leave a Reply