रचना पर कुल आगंतुक :169

You are currently viewing मित्र-पावन रिश्ता

मित्र-पावन रिश्ता

डॉ.अशोक
पटना(बिहार)
***********************************

यह एक सर्वोत्तम उपहार है,
ज़िन्दगी का सबसे बड़ा
अद्भुत संसार है,
मित्र है तो जीवन है
मित्रता नहीं तो सब शून्य है।

आकांक्षाओं को प्रस्फुटित,
मित्र करता है
सम्भावना को पूर्ण करता है,
मित्र ओज और प्रकाश है
ज़िन्दगी का शौर्य और सारांश है।

मित्र है तो दुःख कहां,
ज़िन्दगी सुनसान,
कभी नहीं होगी यहां,
मित्र को हमराज कहते हैं यहां
ज़िन्दगी के सरताज व,
अजीज मानते हैं यहां।

प्रगति और विपत्तियों से,
नहीं रहता है इसे परहेज़
ज़िन्दगी के हर क़दम पर,
दिल से सहेजता है हर खेत।

मार्ग प्रदर्शक है मित्र हरपल यहां,
ज़िन्दगी में सफल बनाने वाली
है मजबूत कड़ी है यहां,
इसके बिना सुख कहाँ।

विपत्तियों का बोझ सहता है मित्र,
कहलाता है इसलिए हृदय से पवित्र
खुशियाँ बिखेरने वाले होते हैं मित्र,
सबेरा और शाम का
उन्नत सन्देश देता है मित्र।

प्रगति पथ पर आगे बढ़ने में,
मित्र का साथ बहुत जरूरी है
यही महत्वपूर्ण आधार और सम्बल,
लगती है मित्रता की परत,
आज़ सबकी बन चुकी मजबूरी है।

मित्र को हम गुनाहगार,
नहीं मानते कभी यहां
ज़िन्दगी के आगे सफ़र का,
हमसफर मानते हैं यहां।

मजबूत इरादों से मित्रता,
सहेजने की जरूरत है खूब यहां
छोटी-मोटी दिक्कतें अब,
नज़र अंदाज़ करने की,
खूब जरूरत है यहां।

आओ हम-सब मिलकर,
एक योजना बनाएं।
मित्र की परिभाषा में,
पवित्र भाव का मलहम लगाएं॥

परिचय-पटना(बिहार) में निवासरत डॉ.अशोक कुमार शर्मा कविता,लेख,लघुकथा व बाल कहानी लिखते हैं। आप डॉ.अशोक के नाम से रचना कर्म में सक्रिय हैं। शिक्षा एम.काम.,एम.ए.(राजनीति शास्त्र,अर्थशास्त्र, हिंदी,इतिहास,लोक प्रशासन एवं ग्रामीण विकास) सहित एलएलबी,एलएलएम,सीएआईआईबी, एमबीए व पीएच-डी.(रांची) है। अपर आयुक्त (प्रशासन)पद से सेवानिवृत्त डॉ. शर्मा द्वारा लिखित अनेक लघुकथा और कविता संग्रह प्रकाशित हुए हैं,जिसमें-क्षितिज,गुलदस्ता, रजनीगंधा (लघुकथा संग्रह) आदि है। अमलतास,शेफालीका,गुलमोहर, चंद्रमलिका,नीलकमल एवं अपराजिता (लघुकथा संग्रह) आदि प्रकाशन में है। ऐसे ही ५ बाल कहानी (पक्षियों की एकता की शक्ति,चिंटू लोमड़ी की चालाकी एवं रियान कौवा की झूठी चाल आदि) प्रकाशित हो चुकी है। आपने सम्मान के रूप में अंतराष्ट्रीय हिंदी साहित्य मंच द्वारा काव्य क्षेत्र में तीसरा,लेखन क्षेत्र में प्रथम,पांचवां,आठवां स्थान प्राप्त किया है। प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के अखबारों में आपकी रचनाएं प्रकाशित हुई हैं।

 

Leave a Reply