कुल पृष्ठ दर्शन : 295

You are currently viewing मीठी-सी उलझन

मीठी-सी उलझन

डॉ. कुमारी कुन्दन
पटना(बिहार)
******************************

हृदय-पटल तू खोल प्रिय,
मन-मौसम बड़ा सुहाना है
उजड़ चुके हैं जो ख्वाब,
आज मुझे सजाना है।

अब चाहे तुम, जैसे रंग लो,
अपने दामन में भर लो
रोम-रोम पुलकित हो जाए,
प्रेम सुधा रस इतनी भर दो
अरमानों की प्यास लिए,
आश मधुर-मिलन की लाई
झंकृत कर उर-तार प्रिय,
वीणा बनकर मैं आई।

एक मीठी-सी उलझन है,
बता मेरा है कौन तू
खुशबू जैसे बस गए हो,
दिल से जाता नहीं क्यूँ
हृदय-पाश में ऐसे बांध,
जैसे लता तरु से लिपटे।
दूर क्षितिज में जा गगन,
आ धरा पर जैसे सिमटे॥

Leave a Reply