कुल पृष्ठ दर्शन : 327

You are currently viewing शरद काव्य संध्या में पढ़ीं सुंदर रचनाएँ

शरद काव्य संध्या में पढ़ीं सुंदर रचनाएँ

मंडला (मप्र)।

शरद पूर्णिमा के अवसर पर राष्ट्रीय काव्य संगम की मंडला इकाई द्वारा रेखा ताम्रकार के संयोजन, कल्पना पांडे के सह-संयोजन में शरद काव्य संध्या का आयोजन किया गया। अध्यक्षता सुप्रसिद्घ कवि व लेखक प्रो. (डॉ.)शरद नारायण खरे ने की। मुख्य अतिथि कवि मधुसूदन तिवारी एवं विशिष्ट अतिथि ए.के. शुक्ला रहे।
इस आयोजन में श्याम बैरागी, जुनैद अख्तर, कौशल्या चौहान, आशा अवस्थी, रश्मि वाजपेयी, वरुण सिहारे आदि ने बढ़िया कविताएं पढ़ीं। प्रो. खरे के श्रंगार मुक्तक बेहद पसंद किए गए।
“तुम मेरा चाँद हो, तुम मेरी चाँदनी,
तुम मेरा राग हो, तुम मेरी रागिनी।
तुम तो हो पूर्णिमा, तुम से अमृत झरे,
तुम तो मधुमास हो, तुम मधुर-यामिनी॥”

खीर वितरण के साथ नर्मदा तट पर यह शरद काव्य निशा सम्पन्न हुई। हेमंत श्रीवास्तव ने संचालन किया।

Leave a Reply