कुल पृष्ठ दर्शन : 327

You are currently viewing सहारा राम है

सहारा राम है

हरिहर सिंह चौहान
इन्दौर (मध्यप्रदेश )
************************************

राम मानवता का चरित्र है,
राम हमारी आस्था में विश्वास का प्रतीक है
राम जग कल्याण का महामंत्र है,
राम कमजोर बेसहाराओं की शक्ति प्रबल है।

राम चाँद भी है, राम सूरज है,
राम जल भी है, राम हवा में भी है
बीच भंवर में फंसे मांझी का किनारा राम है,
दुःख-तकलीफ़-संकटों में घिरे मानव का सहारा राम है।

राम हमारी संस्कृति, सभ्यता का नाम राम है,
राम माँ की लोरी, ममता का स्नेह
प्यार-दुलार का नाम राम है,
राम बसें हमारे रोम-रोम में।
अन्तर्मन की ऊर्जा शक्ति में राम है,
दुःख-तकलीफ़-संकटों में घिरे
मानव का सहारा राम हैं…॥