Visitors Views 266

साहित्यकार डॉ. ‘मानव’ को मिला राष्ट्रीय लघुकथा पुरस्कार

नारनौल (हरियाणा)।

वरिष्ठ साहित्यकार और सिंघानिया विश्वविद्यालय (पचेरी बड़ी, राजस्थान) में हिंदी-विभाग के प्राध्यापक एवं अध्यक्ष डॉ. रामनिवास ‘मानव’ को लघुकथा-साहित्य में उनके विशिष्ट एवं महत्वपूर्ण योगदान के दृष्टिगत ‘महादेवी कौशिक स्मृति राष्ट्रीय लघुकथा पुरस्कार’ दिया गया है। सम्मान-पत्र और राशि भेंटकर उन्हें इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से नवाजा गया।
हरियाणा प्रादेशिक लघुकथा-मंच द्वारा श्री युवक साहित्य-सदन (सिरसा) में आयोजित वार्षिक राष्ट्रीय लघुकथा-सम्मेलन में हरियाणा प्रादेशिक हिंदी साहित्य-सम्मेलन के अध्यक्ष प्रो. रूप देवगुण, मंच की संयोजक डाॅ. शील कौशिक, पत्रिका ‘लघुकथा-कलश’ के संपादक योगराज प्रभाकर और वरिष्ठ साहित्यकार मेजर शक्तिराज कौशिक ने शाॅल, स्मृति-चिह्न से डॉ. मानव को सम्मानित किया।
उल्लेखनीय है कि, १२ से अधिक विधाओं में सृजनरत और ५६ पुस्तकों के लेखक-संपादक डॉ. ‘मानव’ का लघुकथा विधा के विकास में भी अत्यंत उल्लेखनीय योगदान रहा है। उनके ४ मौलिक तथा विविध भाषाओं में आधा दर्जन अनुदित लघुकथा-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। इसके अतिरिक्त डॉ. ‘मानव’ के लघुकथा-साहित्य पर ८ बार एम.फिल्. और २ बार पीएच.-डी. हो चुकी है। विश्वविद्यालयीन पाठ्यक्रम में भी आपकी लघुकथाएं शामिल हैं।