कुल पृष्ठ दर्शन : 351

You are currently viewing सुखद अनुभूति देता है ताजे और नरम शब्दों का स्पर्श-पद्मा सिंह

सुखद अनुभूति देता है ताजे और नरम शब्दों का स्पर्श-पद्मा सिंह

विमोचन…

इंदौर (मप्र)।

यह पुस्तक लेखिका के मन के भाव को प्रस्तुत करती है और जब ताजे और नर्म शब्दों को हमारे हाथ स्पर्श करते हैं तो एक सुंदर अनुभूति होती है। हिंदी पुस्तकों पर पाठकों का ध्यान नहीं जाता है, जिसके परिणाम स्वरूप बहुत-सी पुस्तकें आज भी प्रकाशन के बाद अनुपयोगी साबित हो रही हैं।
यह बात देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार अध्यनशाला में डॉ. निर्मला सिंह द्वारा लिखित ‘कलम बोलती है’ पुस्तक का विमोचन करते हुए मुख्य अतिथि श्री मध्यभारत हिंदी साहित्य समिति की साहित्य मंत्री पद्मा सिंह ने कही।आपने इसकी भूमिका भी लिखी है।
कार्यक्रम के विशेष अतिथि के रूप में मौजूद इस अध्ययनशाला के पूर्व छात्र और वरिष्ठ पत्रकार मुकेश तिवारी ने पहली पुस्तक के विमोचन की खुशी को बच्चे के जन्म लेने पर माँ को होने वाली खुशी के समान माना और पुस्तक को ‘जीवन के अनुभवों का संग्रह’ नाम से नवाजा।
पुस्तक की लेखिका डॉ. सिंह ने भी अपने उद्बोधन से बच्चों को लेखन को आदत बनाने की सलाह दी। आपने कहा कि, जब लेखन की आदत बन जाती है तो उसे उसकी सफल मंजिल भी मिल जाती है। विभागाध्यक्ष डॉ. सोनाली नरगुंदे ने सभी का आभार व्यक्त किया।