कुल पृष्ठ दर्शन : 361

You are currently viewing स्वागत नववर्ष

स्वागत नववर्ष

दिनेश चन्द्र प्रसाद ‘दीनेश’
कलकत्ता (पश्चिम बंगाल)
*******************************************

स्वागतम स्वागतम सुस्वागतम,
आओ हे नववर्ष, तुम्हारा स्वागतम
भूल गए दर्द बहुत, हम सारे गम,
लेकर आओ तुम खुशियाँ हरदम
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम।

पिछले वर्ष में हुआ बहुत इधर-उधर,
तुम्हारे पहरे में न हो कुछ बाहर-भीतर
उजाला ही उजाला हो, रहे नहीं तम,
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम।

जिएं सभी स्वस्थ और खुशहाल जिंदगी,
करें सभी मिल अपने बुजुर्गों की बंदगी
सबको सब मिले समान, न बेसी न कम,
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम।

न फैले कहीं पर भी धार्मिक उन्माद,
इससे होती पूरी मानव जाति बर्बाद
मिल-जुलकर रहें सभी अपने ही दम,
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम।

भूखा न रहे कोई भी जीव, जन-गण,
सभी को मिले हरदम भरपेट अन्न
ढका रहें ‘दीनेश’ सबका बदन हरदम,
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम।

मिले सबको शिक्षा व सबको रोजगार,
तेरे समय में नहीं रहे कोई भी बेजार।
एक-दूसरे के सहयोग को तैयार हरदम,
स्वागतम स्वागतम, सुस्वागतम…॥