Visitors Views 55

है धन्य हास-परिहास जगत

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’
बेंगलुरु (कर्नाटक)

***********************************************

हास्य सम्राट राजू श्रीवास्तव:श्रद्धांजलि….

हास्य गगन विहग उन्मुक्त उड़न,
मुख अरुण किरण मुस्काया है
अवसाद ग्रस्त करता गुलशन,
बस शाम ढले मुरझाया है।

भरता उड़ान नभ हास्य क्षितिज,
सरताज मिलन बन छाया है
श्री हास्य अधर वास्तविक शिखर,
स्वर्णिम अतीत रच पाया है।

सबको अपना जीवन सहचर,
खुशियाँ मुस्कान सजाया है
बन कालजयी दिलदार हॅंसी,
गुमनाम काल बस आया है।

हॅंसमुख अभिनय तनु हास्य लचक,
नेता-अभिनेता छाया है
अति नकल निपुण राजू वास्तव,
बस हास्य जगत चमकाया है।

अति क्लान्त श्रान्त मानव जीवन,
गुलज़ार चमन हॅंसवाया है
सोपान ठहाका गूंज शिखर,
अब ईश्वर गोद समाया है।

शाश्वत कीर्ति रहे युग युग मन,
हँसा कर जो शोक मिटाया है
लिख दिया हास्य रस अमर गीत,
श्री वास्तव शीश नवाया है।

है धन्य हास-परिहास जगत,
संजीवनी बना हर्षाया है।
तुम हास्य सम्राट बनो ज़न्नत,
नमन अश्रु नैन भर आया है॥

परिचय-डॉ.राम कुमार झा का साहित्यिक उपनाम ‘निकुंज’ है। १४ जुलाई १९६६ को दरभंगा में जन्मे डॉ. झा का वर्तमान निवास बेंगलुरु (कर्नाटक)में,जबकि स्थाई पता-दिल्ली स्थित एन.सी.आर.(गाज़ियाबाद)है। हिन्दी,संस्कृत,अंग्रेजी,मैथिली,बंगला, नेपाली,असमिया,भोजपुरी एवं डोगरी आदि भाषाओं का ज्ञान रखने वाले श्री झा का संबंध शहर लोनी(गाजि़याबाद उत्तर प्रदेश)से है। शिक्षा एम.ए.(हिन्दी, संस्कृत,इतिहास),बी.एड.,एल.एल.बी., पीएच-डी. और जे.आर.एफ. है। आपका कार्यक्षेत्र-वरिष्ठ अध्यापक (मल्लेश्वरम्,बेंगलूरु) का है। सामाजिक गतिविधि के अंतर्गत आप हिंंदी भाषा के प्रसार-प्रचार में ५० से अधिक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संस्थाओं से जुड़कर सक्रिय हैं। लेखन विधा-मुक्तक,छन्दबद्ध काव्य,कथा,गीत,लेख ,ग़ज़ल और समालोचना है। प्रकाशन में डॉ.झा के खाते में काव्य संग्रह,दोहा मुक्तावली,कराहती संवेदनाएँ(शीघ्र ही)प्रस्तावित हैं,तो संस्कृत में महाभारते अंतर्राष्ट्रीय-सम्बन्धः कूटनीतिश्च(समालोचनात्मक ग्रन्थ) एवं सूक्ति-नवनीतम् भी आने वाली है। विभिन्न अखबारों में भी आपकी रचनाएँ प्रकाशित हैं। विशेष उपलब्धि-साहित्यिक संस्था का व्यवस्थापक सदस्य,मानद कवि से अलंकृत और एक संस्था का पूर्व महासचिव होना है। इनकी लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी साहित्य का विशेषकर अहिन्दी भाषा भाषियों में लेखन माध्यम से प्रचार-प्रसार सह सेवा करना है। पसंदीदा हिन्दी लेखक-महाप्राण सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ है। प्रेरणा पुंज- वैयाकरण झा(सह कवि स्व.पं. शिवशंकर झा)और डॉ.भगवतीचरण मिश्र है। आपकी विशेषज्ञता दोहा लेखन,मुक्तक काव्य और समालोचन सह रंगकर्मी की है। देश और हिन्दी भाषा के प्रति आपके विचार(दोहा)-
स्वभाषा सम्मान बढ़े,देश-भक्ति अभिमान।
जिसने दी है जिंदगी,बढ़ा शान दूँ जान॥ 
ऋण चुका मैं धन्य बनूँ,जो दी भाषा ज्ञान।
हिन्दी मेरी रूह है,जो भारत पहचान॥

Leave a Reply

Your email address will not be published.