Visitors Views 16

२४ जून को देअविवि में खुलेगा हास्य-व्यंग्य कवियों का पिटारा

कवि सम्मेलन….

इंदौर(मप्र) |

देवी अहिल्या की ऐतिहासिक धरती पर आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की तरफ से शुक्रवार २४ जून की शाम को विश्वविद्यालय के सभागृह में कवि सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। देश के शीर्षस्थ कवियों पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा, रमेश मुस्कान, अरुण जैमिनी, पवन जैन आदि द्वारा छात्रों एवं आमजन के साहित्य में वृद्धि तथा मनोरंजन हेतु यह कवि सम्मेलन पूर्णत: साहित्यिक, शैक्षणिक एवं गैर राजनीतिक होगा। यानी हास्य-व्यंग्य के कवियों का पिटारा खुलेगा।
यह जानकारी आयोजक शाइनिंग डायमंड सोशल वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष विकास बिरथरे एवं विवि की ओर से पत्रकारिता अध्ययनशाला की विभागाध्यक्ष डॉ. सोनाली नरगुंदे ने दी। डॉ. नरगुंदे के अनुसार तक्षशिला परिसर स्थित सभागृह में शाम को ६ बजे इस सम्मेलन में हास्य, व्यंग्य, श्रृंगार व वीर रस की धारा बहने वाली है। कवियों की एक से बढ़कर एक मधुर रचनाओं के बीच हास्य-व्यंग्य का पिटारा खुलेगा और श्रोता फिर हँस-हँसकर लोट-पोट होने वाले हैं। पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा भारतीय कवि और हास्य लेखक हैं, जो ‘चार लेन सुना रहा हूँ’ के लिए जाने जाते हैं। ऐसे ही रमेश मुस्कान पिछले डेढ़ दशक में हिंदी कवि सम्मेलन मंच पर हास्य कवि के रूप में उभरे कवियों में से एक हैं तो अरुण जैमिनी को कविता की समझ और प्रस्तुति कौशल विरासत में मिला है। आपने बताया कि, भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी व हिंदी के लब्ध प्रतिष्ठित कवि पवन जैन को कई बार लाल किले में भी काव्य पाठ करने का अवसर मिला है। इसके अलावा डॉ. हरिओम पंवार, सुश्री मनीषा शुक्ला आदि की रचनाएं भी सभी को आनंदित करेंगी।