कुण्डलिया

Showing 10 of 209 Results

हर मुश्किल में संग

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* भूलो बिलकुल भी नहीं,मित्र निभाता साथ।हर मुश्किल में संग है,नहीं छोड़ता हाथ॥नहीं छोड़ता हाथ,लड़े वो सारे जग से।रखे छुपा सब राज़,सुपरिचित वह रग-रग से॥मिले मित्र का […]

पितृपक्ष वरदान

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* माता तेरी अरु पिता,सदा रहेंगे साथ।भले रहें परलोक वे,तो भी सिर पर हाथ॥तो भी सिर पर हाथ,सदा आशीष सजाएँ।देंगे तेरा साथ,सँजोकर प्रखर दुआएँ॥पितृपक्ष वरदान,पितर हर नेह […]

यही हिंद की शान

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* हिन्दी और हमारी जिन्दगी… हिंदी प्यारी है हमें, यही हिन्द की शान।हमको इस पर गर्व है, यह भारत का मान॥यह भारत का मान, सदा ही दिल […]

मंगल

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* मंगल करते सृष्टि का, वीर बली हनुमान।दु:खभंजन करते सभी, करता जग गुणगान॥करता जग गुणगान, दुष्ट डरकर के भागे।कर लें उनका ध्यान, रहें दुनिया में आगे॥कहे नवल […]

बँधा हुआ है प्यार

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* रक्षाबंधन विशेष…. रक्षाबंधन पर्व पर, छाए खुशी बहार।भाई देता है सदा, बहना को उपहार॥बहना को उपहार,और रक्षा का वादा।सदा निभाता साथ, रखे वह नेक इरादा॥रिश्ते हो […]

मित्र सदा अनमोल

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* मित्रता और जीवन… भूलो बिलकुल भी नहीं,मित्र निभाता साथ।हर मुश्किल में संग है,नहीं छोड़ता हाथ॥नहीं छोड़ता हाथ,लड़े वो सारे जग से।रखे छुपा सब राज़,सुपरिचित वह रग-रग […]

वनवासी कन्या

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* कन्या है वनवासिनी, रहे प्रकृति के संग।दूर रहे संसार से, उसका अपना ढंग॥उसका अपना ढंग, लगे वह भोली-भाली।नाचे मृगकुल बीच, खुशी से दे दे ताली॥कोमल शांत […]

शिखर

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान)********************************************* चढ़ता उन्नति का शिखर, भारत देश महान।दुनिया करती है नमन, ऊंची इसकी शान॥ऊंची इसकी शान, वीर करते रखवाली।धरती स्वर्ग समान, छटा है बड़ी निराली॥इस पर लेता जन्म, […]

सखियां

डॉ.सरला सिंह`स्निग्धा`दिल्ली************************************** डोलत बगियों में सखी, घूमें सखियां साथ।झूलत है झूला कभी, लिए हाथ में हाथ॥लिए हाथ में हाथ, करें आपस में मस्ती।गाती मिल के गीत, लगे मनभावन बस्ती॥‘सरला’ कहती […]

बहना

डॉ.सरला सिंह`स्निग्धा`दिल्ली************************************** बहना तुम डरना नहीं, बनो बहादुर वीर।छोड़ो बनना तुम कली, रखो हाथ में तीर॥रखो हाथ में तीर, करे अब वार न कोई।बीती सदियां आज, रही तू अब तक […]