शीत

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* धुंध छाई,लुप्त सूरज,शीत का वातावरण,आदमी का ठंड का बदला हुआ है आचरण। रेल धीमी,मंद जीवन,सुस्त हर इक जीव है,है ढके इंसान को ऊनी लबादा आवरण। धुंध…

0 Comments

जय नाद

ममता तिवारी ‘ममता’जांजगीर-चाम्पा(छत्तीसगढ़)************************************** दैदीप्त होती दूधिया पूरब में परिमल पूर्णिमा,पश्चिम बची सिंदूर सुहानी पूर्णमासी अरुणिमा।सौंदर्य अनुपम मोहती मन पूर्ण पूनम चाँदनी,नाचे मुदित मन मोर झूमे देख छेड़े रागनी। अत्यंत मादक…

0 Comments

दुःख में भी मुस्काना सीखो

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’रावतसर(राजस्थान) ****************************************** दुःख में भी मुस्काना सीखो, ये रहने न पायेगा,रात अंधेरी ढल जाएगी, सुख सूरज मुस्काएगा। दुःख है तो घबराना कैसा, आती-जाती छाँव है ये,सच की छाया…

0 Comments

तंत्र भी अब भ्रष्ट सारा

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’रावतसर(राजस्थान) ****************************************** बिन मिलावट भोज भी पचता नहीं।जीने का इसके बिना रस्ता नहीं। झूठ का ही दबदबा है हर जगह,सत्य का अब राज है चलता नहीं। हर तरफ़…

0 Comments

सुनता नहीं कोई

शंकरलाल जांगिड़ ‘शंकर दादाजी’रावतसर(राजस्थान) ****************************************** हालात ऐसे हो गये सुनता नहीं कोई,सपने भलाई के भी तो बुनता नहीं कोई।  काँधे किसी भी और के रख दागता गोली,खुद सामने जाकर के क्यों…

0 Comments

मन की बात

डॉ.सरला सिंह`स्निग्धा`दिल्ली************************************** मन की कई बातें सखी कहते नहीं।अपने-पराये की कभी सहते नहीं॥ सब पर नहीं होता असर इस पीर का।सबको सुना कर अश्रु अब बहते नहीं॥ लगता समय संवेदना…

0 Comments

प्रीत गूँथ रही

ममता तिवारी ‘ममता’जांजगीर-चाम्पा(छत्तीसगढ़)************************************** देख सजन मैं प्रीत गूँथ रहीचौथ चाँद के छाँव में,मुझे बाँहों का हार पहनाइन तारों के गाँव में…। लाल मेंहदी लाल चुनरियालाली मोती के टीके,लाली रचाए लाल…

0 Comments

हिन्दी लिए हर ज्ञान

डॉ.सरला सिंह`स्निग्धा`दिल्ली************************************** कहें सबसे सुगम हिन्दी सभी को देख भाती है।सदा तुलसी महादेवी सरिस का मान पाती है॥ युगों से देख हिन्दी ही रही साहित्य की भाषा।कभी कविता, कहानी बन…

0 Comments

देव तुम संसार के

बोधन राम निषाद ‘राज’ कबीरधाम (छत्तीसगढ़)***************************************** विघ्नहर्ता गजानंद विशेष….. विघ्नहर्ता श्री गणेशा, देव तुम संसार के।लाज तेरे हाथ में अब, दीन हम लाचार के॥ प्रार्थना स्वीकार करना, हे गजानन दास हम।भक्ति…

0 Comments

नशा

डॉ.सरला सिंह`स्निग्धा`दिल्ली************************************** भार यह सारे मनुज को ही उठाना चाहिए।हाथ भी अब तो नशे पर ना लगाना चाहिए॥ यह बुरी, कहते सभी हैं लोग दुनिया में बड़े।तोड़ती घर भी यही,…

0 Comments