Visitors Views 82

विदा होता दिसम्बर

डॉ. वंदना मिश्र ‘मोहिनी’
इन्दौर(मध्यप्रदेश)
*********************************************

चलो सखियां ,
ओढ़ लें
एक-दूसरे के दर्द को,
लिहाफ की तरह।
बाँट लें एक-दूजे की पीड़ा को,
प्रसाद की तरह।
कुछ देकर,कुछ लेकर जा रहा है,
यह दिसम्बर एक अनुभव की तरह।
जीने का हुनर,अपनों का साथ,
आत्मा का साक्षात्कार,
करके चला यह साल।
कुछ दर्द दिए,कहीं बिछड़ने का दु:ख,
कोई साथी मिला,कुछ अपने मिले।
कुछ नया सीखा,कुछ पुराना जाना,
आओ इस जाते हुए वर्ष को विदा करें
मना लें इसे जीवन में उत्साह की तरह।
सीख लें इसे किसी सबक की तरह,
क्योकि प्रकृति है अनमोल उपहार की तरह॥

परिचय-डॉ. वंदना मिश्र का वर्तमान और स्थाई निवास मध्यप्रदेश के साहित्यिक जिले इन्दौर में है। उपनाम ‘मोहिनी’ से लेखन में सक्रिय डॉ. मिश्र की जन्म तारीख ४ अक्टूबर १९७२ और जन्म स्थान-भोपाल है। हिंदी का भाषा ज्ञान रखने वाली डॉ. मिश्र ने एम.ए. (हिन्दी),एम.फिल.(हिन्दी)व एम.एड.सहित पी-एच.डी. की शिक्षा ली है। आपका कार्य क्षेत्र-शिक्षण(नौकरी)है। लेखन विधा-कविता, लघुकथा और लेख है। आपकी रचनाओं का प्रकाशन कुछ पत्रिकाओं ओर समाचार पत्र में हुआ है। इनको ‘श्रेष्ठ शिक्षक’ सम्मान मिला है। आप ब्लॉग पर भी लिखती हैं। लेखनी का उद्देश्य-समाज की वर्तमान पृष्ठभूमि पर लिखना और समझना है। अम्रता प्रीतम को पसंदीदा हिन्दी लेखक मानने वाली ‘मोहिनी’ के प्रेरणापुंज-कृष्ण हैं। आपकी विशेषज्ञता-दूसरों को मदद करना है। देश और हिंदी भाषा के प्रति आपके विचार-“हिन्दी की पताका पूरे विश्व में लहराए।” डॉ. मिश्र का जीवन लक्ष्य-अच्छी पुस्तकें लिखना है।