Visitors Views 54

हमारे पालनहार

एस.के.कपूर ‘श्री हंस’
बरेली(उत्तरप्रदेश)
*********************************

पिता हमारे-
संकट में रक्षक,
ऐसे सहारे।

पिताजी सख्त-
घर पालनहार
ऊँचा है तख्त।

पिता का साया-
ये बाजार अपना,
मिले ये छाया।

पिता गरम-
धूप में छाँव जैसे,
है भी नरम।

घर की धुरी-
परिवार मुखिया,
हलवा पूरी।

पिता जी माता-
हमारे जन्मदाता,
सब हो जाता।

पिता साहसी-
उत्साह का संचार,
मिटे उदासी।

पिता से धन-
हो जीवन यापन,
ऋणी ये तन।

पिता कठोर-
भीतर से कोमल,
न ओर छोर।

शिक्षा संस्कार-
होते जब विमुख,
खाते हैं मार।

पिता का मान-
न करो अनादर,
ये चारों धाम।