Visitors Views 56

‘फाग फुहार’ काव्य सम्मेलन सम्पन्न

सरगुजा (छग)।

संस्था व्यंग्यम् के तत्वावधान में होली के अवसर पर वार्षिक कार्यक्रम ऑनलाइन काव्य सम्मेलन ‘फाग फुहार’ का आयोजन किया गया। सम्मेलन में रचनाकारों ने सस्वर काव्य पाठ कर रंग भरी प्रस्तुतियाँ दी।
इस कार्यक्रम की शुरुआत अध्यक्षता कर रहे रंजीत सारथी ने सरस्वती वंदना से की। सभी की रचनाएं एक से बढ़कर रही। गीत,मुक्तक,मुक्त छंद, छंद युक्त कविताओं ने गोष्ठी को यादगार बना दिया। काव्य पाठ में संस्था के संरक्षक डॉ. सपन सिन्हा ने होली की शुभकामनाएं कुछ इस तरह दी-‘यार मेरे तो मुस्कुरा ले इस बरस की होली में।’
संस्था अध्यक्ष अनिता मंदिलवार ‘सपना’ ने गीत ‘ये सुहानी ऋतु फागुन की,सरसी धरती छवि छाने लगी’ की प्रस्तुति दी। इसके बाद पूनम दुबे ने ‘छोड़ो छोड़़ो मुझको सावरियाँ,ऐसे ना भिगो मोरी चुनरियाँ’ कविता प्रस्तुत की। आयशा अहमद ने अपनी रचना ‘पिछली होली तुम्हारा आना अच्छा लगा’ प्रस्तुत की।
इसके बाद संस्था के संयोजक राजेंद्र सिंह ‘अभिन्न’ ने सम-सामयिक क्षणिकाएँ प्रस्तुत की। डॉ. नीरज वर्मा,आशा पांडे,राजेश पांडेय सहित अजय चतुर्वेदी ,गीता द्विवेदी,महिला संगठन प्रभारी अर्चना पाठक ‘निरन्तर’,संस्था सचिव पूनम पांडेय,कोषाध्यक्ष राजलक्ष्मी पांडेय ने भी होली पर सुंदर रचनाएँ प्रस्तुत की। रंजीत सारथी ने बहुत ही सुंदर रचना ‘होली खेले हम जोली’ से समापन किया।
अंत में अनिता मंदिलवार ‘सपना’ ने सभी की रचनाओं की २ पंक्तियों का त्वरित काव्यमय आशु सृजन प्रस्तुत किया। कार्यक्रम प्रभारी गिरीश गुप्ता और ब्लॉक अध्यक्ष अंचल सिन्हा के मार्गदर्शन में
हुए इस सम्मेलन में अनंग पाल दीक्षित,राज नारायण द्विवेदी,वंदना दत्ता,सत्यजीत श्रेष्ठ,सौरभ वाजपेयी,राजेंद्र विश्वकर्मा,राम लाल विश्वकर्मा,मधु गुप्ता,नीलम सोनी आदि की उपस्थिति रही। संचालन राजलक्ष्मी पांडेय और अर्चना पाठक ने किया। ऑनलाइन काव्य सम्मेलन का तकनीकी संचालन संस्था के उपाध्यक्ष इं. विशाल वर्मा ने किया।