Visitors Views 61

कब तक सच्चाई झुठलाएँगे

अवधेश कुमार ‘अवध’
मेघालय
********************************************************************

कब तक झूठे इतिहासों में,सच्चाई झुठलाएँगे,
कब तक अमर शहीद हमारे,आतंकी कहलाएँगे।

माना सत्य-अहिंसा से ही,आजादी हमने पायी,
भारत के बँटवारे का दोषी किसको बतलाएँगे ?

सत्य-अहिंसा से डरकर अंग्रेज यहाँ से भागे थे,
झपट लिया काश्मीर पाक ने,ये कैसे समझाएँगे ?

तीन रंग से बना तिरंगा,बता रहा है सुनो जरा,
साहस से ही शान्ति और फिर हरियाली कर पाएँगे।

अगर नहीं हम बदल सके अपने फर्जी इतिहासों को,
फिर अगली पीढ़ी को कैसे,मुँह अपना दिखलाएँगे!

एक-दूसरे की आजादी का जब समझेंगे मतलब,
सही मायने में उस दिन आजाद सभी कहलाएँगे।

रामचन्द्र कह गए लखन से-बिन भय प्रेम नहीं होता,
अवध आत्मनिर्भर बनकर ही,विश्वगुरु कहलाएँगेll

परिचय-अवधेश कुमार विक्रम शाह का साहित्यिक नाम ‘अवध’ है। आपका स्थाई पता मैढ़ी,चन्दौली(उत्तर प्रदेश) है, परंतु कार्यक्षेत्र की वजह से गुवाहाटी (असम)में हैं। जन्मतिथि पन्द्रह जनवरी सन् उन्नीस सौ चौहत्तर है। आपके आदर्श -संत कबीर,दिनकर व निराला हैं। स्नातकोत्तर (हिन्दी व अर्थशास्त्र),बी. एड.,बी.टेक (सिविल),पत्रकारिता व विद्युत में डिप्लोमा की शिक्षा प्राप्त श्री शाह का मेघालय में व्यवसाय (सिविल अभियंता)है। रचनात्मकता की दृष्टि से ऑल इंडिया रेडियो पर काव्य पाठ व परिचर्चा का प्रसारण,दूरदर्शन वाराणसी पर काव्य पाठ,दूरदर्शन गुवाहाटी पर साक्षात्कार-काव्यपाठ आपके खाते में उपलब्धि है। आप कई साहित्यिक संस्थाओं के सदस्य,प्रभारी और अध्यक्ष के साथ ही सामाजिक मीडिया में समूहों के संचालक भी हैं। संपादन में साहित्य धरोहर,सावन के झूले एवं कुंज निनाद आदि में आपका योगदान है। आपने समीक्षा(श्रद्धार्घ,अमर्त्य,दीपिका एक कशिश आदि) की है तो साक्षात्कार( श्रीमती वाणी बरठाकुर ‘विभा’ एवं सुश्री शैल श्लेषा द्वारा)भी दिए हैं। शोध परक लेख लिखे हैं तो साझा संग्रह(कवियों की मधुशाला,नूर ए ग़ज़ल,सखी साहित्य आदि) भी आए हैं। अभी एक संग्रह प्रकाशनाधीन है। लेखनी के लिए आपको विभिन्न साहित्य संस्थानों द्वारा सम्मानित-पुरस्कृत किया गया है। इसी कड़ी में विविध पत्र-पत्रिकाओं में अनवरत प्रकाशन जारी है। अवधेश जी की सृजन विधा-गद्य व काव्य की समस्त प्रचलित विधाएं हैं। आपकी लेखनी का उद्देश्य-हिन्दी भाषा एवं साहित्य के प्रति जनमानस में अनुराग व सम्मान जगाना तथा पूर्वोत्तर व दक्षिण भारत में हिन्दी को सम्पर्क भाषा से जनभाषा बनाना है।