कुल पृष्ठ दर्शन : 203

You are currently viewing अहं तोड़ता बंधन सारे

अहं तोड़ता बंधन सारे

आशा आजाद`कृति
कोरबा (छत्तीसगढ़)
****************************

अहंकार का त्याग करें हम, यह देवे अभिमान है।
सभ्य मनुज का साथ छुड़ावे, नित्य घटाती शान है॥

दंभ भरें निर्जीव वस्तु का, करें व्यर्थ जो कामना।
जान मनुज व्यवहार धरे निज, बीच अहं की भावना॥

विपत काल पर बिसराते सब, रखें नहीं वे भान है।
अहं तोड़ता बंधन सारे, नहीं रखें संज्ञान है॥

अहं साथ में चलें नहीं यह, नित्य धरें निज भाव में।
तिरस्कार बस जाता हिय में, रिश्ते खोते ताव में॥

अहंकार का त्याग करें हम, यह देवे अभिमान है।
अहंकार दुश्मन मानव का, मानव कर्म प्रधान है॥

सबसे बढ़कर एकमात्र मैं, भ्रम को जो है पालते।
वक्त गिराता व्यर्थ भाव पर, फिर भी वैसा ढालते॥

अपशब्दों के बाण छोड़ते, करते जो आघात है।
वापस मुख पर नहीं लौटता, शब्द-शब्द सौगात है॥

समरसता का पाठ पढ़ाते, वे ही गुण की खान है।
संयमता को धारण करते, मानव वही सुजान है॥

परिचय–आशा आजाद का जन्म बाल्को (कोरबा,छत्तीसगढ़)में २० अगस्त १९७८ को हुआ है। कोरबा के मानिकपुर में ही निवासरत श्रीमती आजाद को हिंदी,अंग्रेजी व छत्तीसगढ़ी भाषा का ज्ञान है। एम.टेक.(व्यवहारिक भूविज्ञान)तक शिक्षित श्रीमती आजाद का कार्यक्षेत्र-शा.इ. महाविद्यालय (कोरबा) है। सामाजिक गतिविधि के अन्तर्गत आपकी सक्रियता लेखन में है। इनकी लेखन विधा-छंदबद्ध कविताएँ (हिंदी, छत्तीसगढ़ी भाषा)सहित गीत,आलेख,मुक्तक है। आपकी पुस्तक प्रकाशाधीन है,जबकि बहुत-सी रचनाएँ वेब, ब्लॉग और पत्र-पत्रिका में प्रकाशित हुई हैं। आपको छंदबद्ध कविता, आलेख,शोध-पत्र हेतु कई सम्मान-पुरस्कार मिले हैं। ब्लॉग पर लेखन में सक्रिय आशा आजाद की विशेष उपलब्धि-दूरदर्शन, आकाशवाणी,शोध-पत्र हेतु सम्मान पाना है। आपकी लेखनी का उद्देश्य-जनहित में संदेशप्रद कविताओं का सृजन है,जिससे प्रेरित होकर हृदय भाव परिवर्तन हो और मानुष नेकी की राह पर चलें। पसंदीदा हिन्दी लेखक-रामसिंह दिनकर,कोदूराम दलित जी, तुलसीदास,कबीर दास को मानने वाली आशा आजाद के लिए प्रेरणापुंज-अरुण कुमार निगम (जनकवि कोदूराम दलित जी के सुपुत्र)हैं। श्रीमती आजाद की विशेषज्ञता-छंद और सरल-सहज स्वभाव है। आपका जीवन लक्ष्य-साहित्य सृजन से यदि एक व्यक्ति भी पढ़कर लाभान्वित होता है तो, सृजन सार्थक होगा। देवी-देवताओं और वीरों के लिए बड़े-बड़े विद्वानों ने बहुत कुछ लिख छोड़ा है,जो अनगिनत है। यदि हम वर्तमान (कलयुग)की पीड़ा,जनहित का उद्धार,संदेश का सृजन करें तो निश्चित ही देश एक नवीन युग की ओर जाएगा। देश और हिंदी भाषा के प्रति विचार-“हिंदी भाषा से श्रेष्ठ कोई भाषा नहीं है,यह बहुत ही सरलता से मनुष्य के हृदय में अपना स्थान बना लेती है। हिंदी भाषा की मृदुवाणी हृदय में अमृत घोल देती है। एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की ओर प्रेम, स्नेह,अपनत्व का भाव स्वतः बना लेती है।”

Leave a Reply