Visitors Views 13

आओ तो दिल की बात कह दूं

दीपेश पालीवाल ‘गूगल’ 
उदयपुर (राजस्थान)
**************************************************

अक्सर रातों में जो करता हूँ खुद से खुद का वो संवाद कह दूं,
तेरे होंठों से मेरे होंठों तक का सफर सर-ए-आम कह दूं।
तुम सिर्फ और सिर्फ मेरी हो,जमाने से यह हसीं बात कह दूं,
अगर आओ कभी….॥

मेरे दिल की धड़कनों को तेरी साँसों की साँझ कह दूं,
मेरी मुहब्बत को सिर्फ तेरी मुहब्बत की आस कह दूं।
तेरे करीब आने से जो होता है वो सुनहरा अहसास कह दूं,
अगर आओ कभी तो…॥

बिन बात जो अक्सर आ जाती आँसूओं की वो धार कह दूं,
मन में उमड़ते जज्बातों का सैलाब कह दूं।
जो आज तक कह न पाया तुमसे,आज वही दिल की बात कह दूं।
अगर आओ कभी तो दिल…॥