कुल पृष्ठ दर्शन : 248

You are currently viewing आधे तुम-आधे हम

आधे तुम-आधे हम

आदर्श पाण्डेय
मुम्बई (महाराष्ट्र)
********************************

कभी हम बनें,कभी तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो।

तारे हम बनें,आसमां तुम बनो,
रात हम बनें,दिन तुम बनो।
कृष्ण हम बनें,राधा तुम बनो,
दूल्हा हम बनें,दुल्हन तुम बनो।

कभी हम बनें,कभी तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो…॥

सत्य हम बनें,सच्चाई तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो।
धागा हम बनें,सुई तुम बनो,
कुछ सपने हम बुनें,कुछ तुम बुनो।

कभी हम बनें,कभी तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो…॥

फूल हम बनें,महक तुम बनो,
दीया हम बनें,बाती तुम बनो।
बादल हम बनें,वर्षा तुम बनो,
धूप हम बनें,छाँव तुम बनो।

कभी हम बनें,कभी तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो…॥

दिल हम बनें,धड़कन तुम बनो,
अहसास हम बनें,ख़्वाब तुम बनो।
कभी हम बनें,कभी तुम बनो,
आधे हम बनें,आधे तुम बनो…॥

Leave a Reply