कुल पृष्ठ दर्शन : 336

You are currently viewing कवि गोष्ठी संग कृति ‘पूरा सच’ लोकार्पित

कवि गोष्ठी संग कृति ‘पूरा सच’ लोकार्पित

पटना (बिहार)।

संपादक एवं कथाकार अमरेंद्र कुमार सिंह ने पटना में ‘शिष्ट विनोद’ के कार्यालय पर सारस्वत विचार और कवि गोष्ठी का आयोजन किया। इसी क्रम में अमरेंद्र कुमार सिंह की नवीन कथा कृति ‘पूरा सच’ का लोकार्पण भी अतिथि साहित्यकारों के हाथों हुआ।
‘पत्रकारिता दिवस’ पर यह आयोजन ‘साहित्यिक पत्रकारिता पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का प्रभाव’ विषय पर किया गया। इसमें पक्ष-विपक्ष में चर्चा हुई, वहीं काव्य संध्या का भी आयोजन किया गया। समारोह संयोजक अमरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने साहित्यिक पत्रकारिता को एक नई दिशा दी है। कवि सिद्धेश्वर ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कारण साहित्य सृजन से जुड़े हुए कई उपेक्षित रचनाकारों को खुला मंच मिला है।विपक्ष में कवि घमंडी लाल ने कहा कि, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने साहित्य में कचरा भर दिया है, इस कारण अब कोई सूरदास, कबीरदास या तुलसीदास या प्रेमचंद नहीं बन सकता, इसलिए हमें इसका विरोध करना चाहिए। अध्यक्षीय टिप्पणी में लेखिका विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा कि, समय के साथ हमें भी बदलना चाहिए। विज्ञान की प्रगति के कई आयाम रहे हैं। हमें उसका सकारात्मक रूप अख्तियार करना चाहिए। विशिष्ट अतिथि गीतकार मधुरेश नारायण ने कहा कि, यह इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ही है कि, हम देशभर की खबरें अखबार छपने के पहले जान लेते हैं।
मुख्य अतिथि कवि एमके मधु ने कहा कि, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का जो प्रभाव साहित्यिक पत्रकारिता पर पड़ा है, उसमें फायदा अधिक है और नुकसान कम। कवयित्री राज प्रिया रानी ने कहा कि आज इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नए- पुराने रचनाकारों के लिए खुला मंच बन गया है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने आम पाठकों को साहित्य से जोड़ने का काम किया है।
राजमणि मिश्र, अमृता सिंह, सुनील कुमार, नूतन सिन्हा, पूनम कतरियार, सीमा रानी और रामनाथ सिंह आदि ने भी विचार व्यक्त करते हुए एक से बढ़कर एक कविताओं का पाठ किया। धन्यवाद ज्ञापन अमरेंद्र कुमार सिंह ने किया।

Leave a Reply