कुल पृष्ठ दर्शन : 526

You are currently viewing गुरु से होती गोविंद की पहचान

गुरु से होती गोविंद की पहचान

दिपाली अरुण गुंड
मुंबई(महाराष्ट्र)
*****************************

गुरु पूर्णिमा विशेष…..

माता-पिता ही प्रथम गुरु,
जिनसे होती शिक्षा शुरू।

कभी डाँट-फटकार सुनाते,
जैसे मूर्तिकार मूर्तियाँ बनाते।

मार्ग दिखाए वह प्रकाश स्तंभ-सा,
मानो कठिनाइयों में अडिग चट्टान-सा।

गुरु और गोविंद में भी गुरु को मान,
क्योंकि,गुरु से होती गोविंद की पहचान।

गुरु मिले तो सब जग प्यारा,
गुरु बिन तू,सारे जग से हारा॥

Leave a Reply