कुल पृष्ठ दर्शन : 308

You are currently viewing चरण वंदना आपकी श्री गंगा

चरण वंदना आपकी श्री गंगा

श्रीमती देवंती देवी
धनबाद (झारखंड)
*******************************************

चरण वन्दना आपकी, हे भागीरथी आप बड़े महान हैं,
श्रीगंगाजी को लाए धरा पर, सभी जनों का कल्याण है।

पावन पुण्यतिथि गंगा दशहरा की, आज खुशहाली है,
सब नदियों में सबसे बड़ी, श्री गंगा की बात निराली है।

सादर नमन,कोटि नमन, हे हमारी माता श्री गंगा,
आपके पवित्र जल से मनुष्य का तन हुआ चंगा।

अपनी पावन पुण्य धरा में, जब से आई हैं गंगा मैया,
हरी-भरी हुई है वसुंधरा, आगे बढ़ी जीवन की नैया।

गंगाजल के बिना, पूजा जप-तप सम्पूर्ण नहीं होता है,
जीवन के अंत क्षण में, गंगाजल सबको मुक्ति देता है।

जन्म से ले के अंत समय तक, गंगाजल की जरूरत है,
त्योहारों में देवी प्रतिमा के लिए गंगाजल पूरक है।

नमन करिए मित्रों माता गंगा को, गंगा माता महान् हैं,
गंगा जी की महिमा, मात-पिता-गुरु-ईश्वर के समान है।

पुण्य धरा में गंगा बहार सबके मन को लुभा रही है,
रोगियों की माँ गंगा, जल से कंचन काया बना रही है॥

परिचय– श्रीमती देवंती देवी का ताल्लुक वर्तमान में स्थाई रुप से झारखण्ड से है,पर जन्म बिहार राज्य में हुआ है। २ अक्टूबर को संसार में आई धनबाद वासी श्रीमती देवंती देवी को हिन्दी-भोजपुरी भाषा का ज्ञान है। मैट्रिक तक शिक्षित होकर सामाजिक कार्यों में सतत सक्रिय हैं। आपने अनेक गाँवों में जाकर महिलाओं को प्रशिक्षण दिया है। दहेज प्रथा रोकने के लिए उसके विरोध में जनसंपर्क करते हुए बहुत जगह प्रौढ़ शिक्षा दी। अनेक महिलाओं को शिक्षित कर चुकी देवंती देवी को कविता,दोहा लिखना अति प्रिय है,तो गीत गाना भी अति प्रिय है |

Leave a Reply