कुल पृष्ठ दर्शन : 306

You are currently viewing तारीफ सुनने की आदत न डालिए

तारीफ सुनने की आदत न डालिए

बबीता प्रजापति ‘वाणी’
झाँसी (उत्तरप्रदेश)
******************************************

तारीफ सुनने की,
आदत न डालिए
मीठा जहर है ये,
जीवन से निकालिए।

तारीफ तो हमेशा,
पीठ पीछे हो तो भली
सामने तारीफ की,
आदत न डालिए।

मगर सुनिए!
कुछ-कोई अच्छा लगे अगर
दिल से तारीफ कीजिए।
उस तारीफ में कभी,
मसाले न डालिए॥

Leave a Reply