Visitors Views 76

दार्शनिक की पाठशाला और मैं

जितेंद्र शिवहरे
इन्दौर(मध्य प्रदेश)
*********************************************************************
जीवन को भली-भांति जानने और समझने के लिए मुझे एक दार्शनिक की कक्षा में कुछ समय बिताने का सौभाग्य मिला। उन्होंने मेरी मुख मुद्रा को भांप कर पहले मुझसे ही भरी महफिल में सवाल किया-“बेटे! तुम्हारे अनुसार जीवन क्या है ?”
मैं चौंका। पहला ही प्रश्न मुझसे पूछकर उन आदरणीय ने मेरी हालत खस्ता कर दी। मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था,क्या कहूँ ? क्या न कहूं ? फिर थोड़ा खुद को संभालते हुए मैंने कहा-“महोदय,मेरे लिए जीवन सुबह दस से शाम छः बजे तक अपने रोजगार को बचाने और बढ़ाने का एक सक्रिय और कष्टदायक चक्रव्यूह है जिसमें मुझे प्रतिदिन प्रवेश करना होता है और बचते-बचाते निकलना भी होता है। इस दौरान लगभग एक बार की संपूर्ण पृथ्वी की यात्रा करने के बराबर में चल लेता हूँ । ह्रदय के अन्दर तक फांस की चुभन देने वाली बाॅस की डांट और ऑफिस से निकाल बाहर फेंकने की आये-दिन मिलने वाली धमकियों के बीच हर क्षण अपमान के घूँट सिर्फ इसलिए पी जाता हूँ,क्योंकि मुझे अभी पन्द्रह साल और गृह कर्ज की किश्तें चुकानी है। बेटे की स्कूल फीस का भुगतान समय पर हो,इसलिए मैं समय पर अपना काम पूरा करने के लिए दिन-रात भागा-दौड़ी में लगा रहता हूँ। ऑफिस से लौटने पर शाम का समय मुझे अपने परिवार के साथ बिताना होता है। बीबी की प्रतिदिन की फरमाइश,जो किसी आदेश से कम नहीं होती है,अपने बटूए में रखे शेष रूपयों से जोड़-तोड़ कर सर्वाधिक महत्व की वस्तुओं को क्रय करने में जितना मानसिक दबाव और परेशानी उस वक्त सह रह होता हूँ,उतना असहज तो मैं अपने कार्यालय में लाखों का हिसाब-किताब करने में भी कभी नहीं होता। शाम को घर लौटते समय बच्चों की छोटी-छोटी ख्वाहिशें पूरी न कर सकने की असमर्थता लिये घर की दहलीज में प्रवेश करना किसी दूसरे देश की अन्तर्राष्ट्रीय सीमा में घुसपैठ करने से कम प्रतीत नहीं होता,जहां अक्सर मुझे बच्चे आतंकवादी समझकर रंगेहाथ पकड़ लेते हैं और दौड़ते हुए मेरे ऊपर चढ़ाई शुरू कर देते। मैं निहत्था बेबस होकर अपने हथियार डालकर आत्मसमर्पण कर देता हूँ। फिर शुरू होते हैं उनके पूछताछ से भरे प्रश्न-“पापा! वो नया वाला खिलौना लाए के नहीं ? पापा,वो रिमोट वाली कार लाए क्या ? आपने प्रामिस किया था। मेरे सभी दोस्त के पास रिमोट वाली कार है, सिर्फ मेरे ही पास नहीं है।” ये पूछताछ मुझे किसी अपराधी को दिये जाने वाले थर्ड डिग्री टॉर्चर से कम नहीं लगती। मेरे समझाने-बुझाने पर भी जब बच्चे नहीं मानते,तब फिर आखिरकार क्रोधवश मुझे उन पर हाथ उठाना पड़ता है जिससे भयभीत होकर वे भूखे पेट ही सो जाते हैं। ऑफिस का गुस्सा कभी बच्चों पर तो कभी पत्नी पर निकालकर मैं पश्चाताप से भर उठता हूँ। बूढ़े माता-पिता हर शाम यही सोचकर मेरी आँखों में आँख डाल कर मुझे ऐसे देखते हैं,मानो अपना एकमात्र प्रश्न जो वे वर्षों से पूछ रहे हैं,पुनः वही पूछ रहे हों कि-“बेटा! चारधाम यात्रा की टिकिट बुक करवा लाए क्या ?” उस समय मैं अपने माता-पिता से नज़र नहीं मिला पाता और वह भी मेरी मनःस्थिति भांपकर आगे कुछ नहीं पूछते। रात में जल्दी सोकर मुझे सुबह जल्दी उठकर ऑफिस भागना होता है, क्योंकि मैंने अपनी बहन को स्कूटी मोपेड दिलाने का वादा पिछले रक्षाबंधन पर किया था,यदि कहीं उससे मेरा आमना-सामना हो गया तो उसे मैं क्या जवाब दूंगा ? पत्नी का सूना गला और कोरे हाथ जब भी देखता हूँ तो सुनार के यहां रखे उसके गिरवी गहनों को छुड़ा नहीं सकने की पीड़ा अपनी पत्नी की आँखों में प्रतिदिन देखकर आत्मग्लानि से भर उठता हूँ।
अपनी बूढ़ी मोटरसाइकिल,जिसे मैं अधिक और वो मुझे कम ही ढोती पाती है,को देखकर दोस्त लोग उसे संग्रहालय में रखवाने का तंज कसते हैं,जिसे सुनकर भी मैं अनसुना कर देता हूँ। नये कपड़े खरीदना मेरे लिए हमेशा चुनौतीपूर्ण कार्य जैसा ही रहा है। फटे कपड़े पर चीथड़े लगाने और पहनने में आधुनिक फैशन ने मुझे बहुत मदद की है। “ये फैशन है” सोचकर कोई भी मेरे कपड़ों पर टीका-टिप्पणी नहीं करता।
जन्मदिन पर सहकर्मी अक्सर घर बुलवाकर पार्टी देने की बात करते हैं,उन्हें घर बुलवाना या पार्टी देना यानी की पांच से छः हजार रूपये का व्यय। ये इतना व्यय है जितने में मेरे संपूर्ण परिवार के लिए पूरे माह का राशन आ सकता है। अगर इतने ही रूपये मैं व्यय करूं तो माँ-बाबूजी के तीर्थ जाने की व्यवस्था हो सकती है। इतने ही रूपये यदि अपनी मोटरसाइकिल पर खर्च करूं तो वो नई नवेली चमचमाती बाइक बन सकती है। यही रूपये डाउन पेमेंट कर फाइनेंस करवाकर बहन के कॉलेज जाने के लिए स्कूटी खरीदी जा सकती है। इसलिए, “मैं अपना जन्मदिन नहीं मनाता” कहकर अक्सर मित्रों को टाल देता हूँ। इतना ही नहीं,मैं स्वयं उनके जन्मदिन पर बधाई के अलावा कुछ नहीं दे पाता। हजार-पांच सौ रूपये से कम का लिफाफा नहीं दिया तो वह मित्र क्या सोचेगा ? इसीलिए,उनकी पार्टी भी अटेंड नहीं करता।
कहते-कहते मैं कुछ देर चुप रहकर फिर बोला-“मेरे नजरिए से गुरूजी,जो मैं अब तक देख सका और अनुभव किया शायद इसे ही जीवन कहते हैं।” मेरा मौन वातावरण को भी मौन कर गया।
दार्शनिक महोदय और उनके सहयोगी तथा आसपास बैठे सभी अनुयायी हतप्रद होकर मुझे देखे जा रहे थे। सभी टक-टकी लगाये यह देखना चाहते थे कि दार्शनिक गुरूजी मेरे उत्तर को स्वीकार करते हैं,अथवा अस्वीकार। साथ ही गुरुजी अपने कौन-से नये विचार रखते हैं मेरे विचारों को सुनने के बाद ?
दार्शनिक गुरूजी ने मेरे सिर पर हाथ रखा और कहा-“बेटा! अभी तुम्हारा मन स्थिर नहीं है। मन जब स्थिर हो,तब आना। विस्तार से चर्चा करेंगे।” ऐसा कहकर दार्शनिक गुरुजी ने अपने नजदीक खड़े एक शिष्य के कान में कुछ कहा और उठकर चल दिये। अगले ही पल आश्रम के उस शिष्य ने समय पूर्व ही कक्षा सम्पन्न होने की घोषणा कर दी। सभी अनुयायियों के साथ मैं भी अपने घर की ओर निकल पड़ा। मन का बोझ कुछ हल्का तो अवश्य हुआ था। दार्शनिक की पाठशाला में आने का यह त्वरित लाभ मैं महसूस कर रहा था।

परिचय-जितेंद्र शिवहरे की जन्म तारीख १७ जुलाई १९८४ और जन्म स्थान-इंदौर है। वर्तमान में इन्दौर(मध्य प्रदेश) में बसे हुए हैं। आपकी शिक्षा एम.ए.(संस्कृत) है। कार्यक्षेत्र में सहायक अध्यापक (नौकरी) के तौर पर कार्यरत श्री शिवहरे सामाजिक गतिविधि में काव्य गोष्ठियों में सहभागिता करते हैं। इनकी लेखन विधा-गीत,गज़ल और कथा है। लेखनी का उद्देश्य-समाजसेवा है। आपके लिए प्रेरणा पुंज-साहित्य ही है। भाषा ज्ञान-हिन्दी का है,तो रुचि-लेखन में ही है।