Visitors Views 16

नेता बनाम किसान

सुषमा मलिक 
रोहतक (हरियाणा)

*************************************************************************************

चुनावों का मौसम चल रहा है,वोटों की गर्मा-गर्मी है,
किसान का हाल देखो,उसकी नस-नस में तना-तनी हैl

नेता वोट बटोरने में हैं व्यस्त,जा रहे हैं ये जनता के द्वार,
किसान को लपेटा आग ने,तो कभी पड़ी ओलों की मारl

दिन-रात कुर्सी के लिए,ये सफेदपोश नेता भाग रहे हैं,
फसल की चिंता में देखो,किसान रात को जाग रहे हैंl

नेता को वोट चाहिए बस,चल रहे हैं आज इनके रोड-शो,
किसान को लगी है चिंता,जो दिया है उसने खेत में बोl

किसान पर भी करें राजनीति,चाहिए बस कुर्सी औऱ नोट,
पल-पल घुट रहा किसान जो,फिर भी इनको देता वोटl

चुनाव के वक़्त ही जागे,फिर 5 साल तक ये सोते हैं,
किसानों की हालत देखो,जो सारी उम्र तक रोते हैंl

ये कहलाते देश के नेता,जो झूठे वादे आज कर रहे हैं,
उस किसान की गिनती नहीं,जो देश का पेट भर रहे हैंl

नेताओं से शोषित ये देश,फिर भी ये मेरा भारत महान है,
आँख खोल देख मलिक,किसान इस देश की शान हैll

परिचय : रोहतक निवासी सुषमा मलिक की जन्मतिथि-२३ अक्टूबर १९८१ तथा जन्म स्थान-रोहतक (हरियाणा)है। आपका निवास रोहतक स्थित शास्त्री नगर में है। एम.सी.ए. तक शिक्षित सुषमा मलिक का कार्यक्षेत्र विद्यालय में प्रयोगशाला सहायक और एक संस्थान में लेखापाल का है। आप सामाजिक क्षेत्र में कम्प्यूटर प्रयोगशाला संघ की महिला प्रदेशाध्यक्ष हैं। लेखन विधा-कविता,लेख और ग़ज़ल है। विविध अखबारों और पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं निरन्तर आती रहती हैं। उत्तर प्रदेश की प्रमुख साहित्यिक संस्था सहित अन्य संस्थाओं ने भी आपको सम्मानित किया है। आपकी दृष्टि से लेखन का उद्देश्य-अपनी आवाज से जनता को जागरूक करना है।