Visitors Views 60

मार्वल सिनेमेटिक वर्ल्ड की फिल्में-कुछ रोचक तथ्य

इदरीस खत्री
इंदौर(मध्यप्रदेश)
*******************************************************

भाग-१…..

मार्वल सिनेमेटिक फ़िल्म निर्माण कम्पनी है,जो अमेरिकन है और जिसने सुपर हीरो को नई दिशा के साथ नई दशा भी दी है,साथ ही विश्वस्तर पर फिल्मों ने अभूतपूर्व सफलता के साथ धन की बरसात भी की है।
मुझे कई दोस्तों ने पूछा-एवेंजर्स की लोकप्रियता इतनी क्यों और कैसे ? हमें तो इन फिल्मों में ऐसा कुछ खास दिखा नहीं!
तो दोस्तों,मार्वल की सभी फिल्म एक दूज़री फ़िल्म से तारतम्यता(कनेक्टिविटी)में होती है। मार्वल ने २००८ से अभी तक लगभग १८ फिल्म दी है। उसके पहले का इतिहास भी सफलता और असफलता से भरा हुआ है,लेकिन एवेंजर्स पर चर्चा २००८ से शुरू होती है।
एवेंजर्स श्रृंखला,जो बड़े शानदार तरीके से एक-दूसरे से गूँथी हुई या जुड़ी हुई होकर आगे जाकर एकसाथ होती चली जाती है,मार्वल सिनेमेटिक में इस एवेंजर्स श्रृंखला बनाई, जिसका अंतिम भाग ‘एन्ड गेम’ प्रदर्शन को तैयार है।
चलिए आज आपको मार्वल की बनाई फिल्मों को चरणबद्ध तरीके से बताते हैं, साथ भी यह खुलासा भी कि कैसे मार्वल ने सभी फिल्मों के एवेंजर्स को एकसाथ कर दिया और आज एकसाथ आकर लड़ते हैं। इसे गढ़ने के लिए मार्वल ने अपनी सभी फिल्म को चरणबद्ध किया,जिसे हम तीन चरणों में बाँट सकते हैं
जिससे तारतम्यता को समझना आसान होगा-
#पहला चरण-
इसमें कई सुपर हीरो के उदय और स्थापना के साथ उनसे जुड़ी शक्तियों की जानकारी दी गई। यह अलग-अलग रहकर पृथ्वी पर बुराई से लड़ रहे थे।
इन एवेंजर्स को साथ लाने का प्रयास दिखाया गया था,मैं आपको हर फिल्म की खासियत के साथ एवेंजर्स तक पहुंचने का रास्ता भी बताऊंगा,जिससे एवेंजर्स-एन्ड गेम तक पहुंचने में मदद होगी।
इसे हम तीन भाग में बाँट देते हैं-


*भाग-१

-इसकी पहली फ़िल्म थी आयरन मेन। यह शुरू हुआ २००८ की फ़िल्म ‘आयरन मेन’ से। इसमें एक वैज्ञानिक और हथियार निर्माणकर्ता वैज्ञानिक लोहे का सूट बनाता है जिसे खुद पहनकर असीम शक्तियों का मालिक बनकर दुनिया की बुरे लोगो से हिफाज़त करता है। इसके सूट में लाजवाब शक्तियां समेटी गई है,जैसे-उड़ने की शक्ति, कॉस्मिक किरण उगलने की शक्ति,बम, बारूद,गोलियों के साथ आग उगलने की शक्ति। यह सूट अत्यधिक आधुनिक कम्प्यूटर से सज्जित होकर इनसाइक्लोपीडिया की तरह बनाया होकर खुदधारक से बात भी करता है। साथ ही सलाह के साथ चेतावनी भी देता है। फ़िल्म के नायक थे रॉबर्ट डाउनी जूनियर जो कमाल अभिनेता है। इनकी शख्सियत अब विश्वभर में आयरन मेन की हो चली है।
इस फ़िल्म में आयरन मेन,निक फ्यूरी, शील्ड की भी झलक दिखाई गई थी।
इस फ़िल्म ने हॉलीवुड फिल्म जगत में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली १० फिल्मों की फेहरिस्त में जगह बनाई थी।
Θइन्क्रिटीएबल हल्क(२००८)-
इसी चरण की दूसरी फिल्म थी हल्क सुपर हीरो। एक आम आदमी को गुस्सा आने पर कैसे हरा राक्षस बन जाता है,यह बदलाव एक वैज्ञानिक प्रयोग के असफल होने के कारण होता है। इसके बाद हल्क पर बम,बारूद,गोलियां बेअसर होती है। इस फ़िल्म में एक खास मुद्दा यह भी बताया गया था कि हो सकता है सुपर हीरो कारगर है,लेकिन उनके बचाव अभियान के वक्त जो राष्ट्रीय सम्पदा का नुकसान होता है,उस पर दर्शकों का ध्यान खींचना। तब सरकार सुपर हीरो के विरोध में आ जाती है। इसी फिल्म में जनरल थंडरबर्ड रॉस का प्रवेश दिखाया गया,जिन्होंने एवेंजर्स की नींव रखी थी।
Θआयरन मेन-२(२०१०)-
यह लोहे के सूट वाला सुपर हीरो था।
सरकार के साथ आम लोगों की सुरक्षा को लेकर चिंता करते दिखाई गई इसी फिल्म में एंट्री हुई ब्लेक विडो,वार मशीन, कैसे हल्क आयरन मेन,ब्लेक विडो वार मशीन एवेंजर्स की टीम बनने की शुरूआत हुई,या वो एकसाथ हुए।
Θथॉर(२०११)-
इसमें एक दूसरी दुनिया या ग्रह एस गार्ड वर्ल्ड से रूबरू कराया गया,जहां राजकुमार एक सुपर हीरो थॉर की एंट्री की गई,जिसके पास असीम ताकत से लबरेज एक हथौड़ा है जो थॉर के दिमाग से जुड़ा हुआ है। इससे वह लड़ता भी है और उड़ता भी है। यह हथौड़ा आक्रमण के साथ ढाल का काम भी करता है, जिसमें बिजली की शक्ति समाई है। इस फ़िल्म में टेलीपोट(एक ग्रह से दूसरे ग्रह में पहुँचने) का करिश्मा दिखाया गया था। इस फ़िल्म में होकाई(एक योद्धा),लोकी (थॉर का भाई) की एंट्री हुई।
Θकैप्टन अमेरिका-फर्स्ट एवेंजर्स (२०११)-
इसमें पहले ऐवेंजर्स कैप्टन अमेरिका की उदय की कहानी दिखाई गई,जो१९४२ विश्वयुद्ध के आसपास की थी। इसमें बताया गया कि कैसे एक बीमार और कमज़ोर बच्चा वैज्ञानिक प्रयोग से सुपर हीरो ‘कैप्टन अमेरिका’ बनता है। साथ ही कैप्टन अमेरिका की ढाल जो वाईब्रेनियम दुर्लभ धातु) की बनी है,उसकी हल्की-सी झलक पता चली। यह वही धातु है जो बाद में फ़िल्म ‘ब्लेक पेंथर-२०१८’ की दुनिया वकाण्डा में जाकर मिलती है।
इस फ़िल्म में एक मणी की झलक दिखाई गई,जो अंतरिक्ष मणी(स्पेस स्टोन)है।
इसी फिल्म में शील्ड(एवेंजर्स को जोड़ने वाला संगठन) के कुछ निर्माण सदस्य भी दिखे,जैसे हॉवर्ड स्टार्क और पेकि गॉर्डन।
Θद ऐवेंजर्स(२०१२)-
इस फ़िल्म को प्रथम चरण की अंतिम फ़िल्म माना जाएगा,क्योंकि यहां आकर सभी एवेंजर्स को शील्ड द्वारा एकसाथ कर दिया जाता है। इसमें आयरन मेन, हल्क,कैप्टन अमेरिका,थॉर, ब्लेक विडो, होकाई सभी एक दल का हिस्सा होकर पृथ्वी की अंतरिक्ष से आए एलियन से रक्षा करते हैं। इसी फिल्म में दूसरी मणी-माइंड स्टोन और उसकी ताकत भी दर्शाई गई। इसी फिल्म में एक झलक आने वाले वक्त के विश्व के रुपहले पर्दे के सबसे खतरनाक खलनायक थानोस की भी दिखाई गई थी।

*भाग दो-
Θआयरन मेन-३
२०१३ में आई इस फ़िल्म में आयरन मेन के अंतर्द्वंद का चित्रण किया गया था,साथ ही कुछ पुराने दुश्मन जो धरती के लिए मुसीबत बन सकते हैं,उनसे भी निपटते दिखाया गया था।
Θथॉर द डार्क वर्ल्ड-
२०१३ में आई इस फ़िल्म में बताया कि थॉर कैसे अंधेरी दुनिया के राक्षसों से लड़ता और ब्रह्मांड की रक्षा करता है। अंधेरी दुनिया के राक्षस ईथर की मदद से पूरे ब्रह्मांड को अंधेरी दुनिया का बनाना चाहते थे,लेकिन थॉर अपने सौतेले भाई लोकी की मदद से उनसे लड़कर जीतता है। इसी फिल्म में तीसरी मणि (रियलिटी स्टोन) भी सामने लाया गया,जो ईथर के रूप में होता है।
Θकैप्टन अमेरिका विंटर सोल्जर-
कैप्टन अमेरिका का एक पुराना दोस्त दुश्मन बनकर सामने आ जाता है। इस फ़िल्म में ही पता चलता है कि हाइड्रा भी जीवित है। इसी फिल्म में हम रूबरू हुए शेरेन कार्टर,फाल्कन और विंटर सोल्जर से, तो इसी फिल्म में शील्ड की विस्तृत जानकारी भी सामने आई।
Θगार्जियन ऑफ गैलेक्सी-
यह २०१४ में आई,जिसमें कुछ अपराधी ब्रह्मांड में भगोड़े होते हैं,और वह कैसे पूरे ब्रह्मांड को बुरी शक्तियों से बचाकर
एवेंजर्स बनते हैं। इसी फिल्म में चौथी मणी-पॉवर स्टोन भी सामने आई,जो सारी मणियों में सबसे पुरानी है। इसी फिल्म से पता चलता है कि सारी फिल्में पॉवर स्टोन की तरफ बढ़ रही हैं और थानोस इन सभी मणियों को हासिल करके पूरे ब्रह्मांड पर राज करना चाहता है।
Θएज ऑफ अल्ट्रॉन-
२०१५ में आई इस फ़िल्म में आयरन मेन एक कम्प्यूटर जनित रोबोट अल्ट्रॉन बनाता है,जो सोचने-समझने की शक्ति लिए होता है। फिर यह अल्ट्रॉन अपनी फ़ौज खड़ी कर देता है और यह मानव सभ्यता के लिए खतरा बन जाते हैं। तब सभी एवेंजर्स साथ आकर इससे निपटते हैं और मानव जाति की रक्षा करते हैं।
इसी फिल्म में कुछ नए एवेंजर्स भी दिखे, जैसे-क्विक सिल्वर,स्कारलेट विच, विजन।
Θएंट मेन-
२०१५ में ये फिल्म आई थी। इसमें एक सज़ायाफ्ता मुज़रिम एक वैज्ञानिक के प्रयोग में सहायता करता है। प्रयोग में बताया कि किस तरह से इंसान का जिस्म छोटा होकर चींटी के आकार का हो जाता है। इसी फिल्म में हमें भविष्य की एक एवेंजर्स द वाष्प की जानकारी मिलती है।
दोस्तों,
तीसरे मार्वल की फिल्में कैसे जुड़ी हैं एक-दूसरे से,इस पर चर्चा अगले भाग में अविरत…

परिचय : इंदौर शहर के अभिनय जगत में १९९३ से सतत रंगकर्म में इदरीस खत्री सक्रिय हैं,इसलिए किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग १३० नाटक और १००० से ज्यादा शो में काम किया है। देअविवि के नाट्य दल को बतौर निर्देशक ११ बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में देने के साथ ही लगभग ३५ कार्यशालाएं,१० लघु फिल्म और ३ हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। आप इसी शहर में ही रहकर अभिनय अकादमी संचालित करते हैं,जहाँ प्रशिक्षण देते हैं। करीब दस साल से एक नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं। फिलहाल श्री खत्री मुम्बई के एक प्रोडक्शन हाउस में अभिनय प्रशिक्षक हैंl आप टीवी धारावाहिकों तथा फ़िल्म लेखन में सक्रिय हैंl १९ लघु फिल्मों में अभिनय कर चुके श्री खत्री का निवास इसी शहर में हैl आप वर्तमान में एक दैनिक समाचार-पत्र एवं पोर्टल में फ़िल्म सम्पादक के रूप में कार्यरत हैंl